एडवांस्ड सर्च

शिवसेना पहले एनडीए का हिस्सा होकर मोदी सरकार का विरोध करती थी, अब वह औपचारिक रूप से विपक्ष का हिस्सा बन गई है. जिसका असर सोमवार को दिखा, शिवसेना ने लोकसभा में किसानों के मसले पर स्थगन प्रस्ताव दिया.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद अब निर्मोही अखाड़ा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखा है. खत में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक केंद्र सरकार से राम मंदिर निर्माण में निर्मोही अखाड़े की भूमिका स्पष्ट करने के लिए कहा गया है.
    आज से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार 27 बिल पेश करेगी लेकिन विपक्ष के विरोध और हंगामे के आसार हैं. जस्टिस अरविंद शरद बोबडे सुप्रीम कोर्ट के 47वें मुख्य न्यायधीश बने, राष्ट्पति कोविंद ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. पढ़ें सोमवार सुबह की पांच बड़ी खबरें.
    शीतकालीन सत्र से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया से बात की. पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि 2019 का ये आखिरी संसद सत्र है, राज्यसभा का 250वां सत्र है. इस सत्र के दौरान 26 तारीख को हमारा संविधान दिवस है, हमारे संविधान के 70 साल हो रहे हैं.
    इस सत्र में लाया जाने वाला सबसे अहम नागरिकता संशोधन बिल है. 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलने वाले इस सत्र में सरकार का फोकस 39 बिलों को पास कराना है.
    कांग्रेस के लोकसभा में 52 सांसद हैं, डीएमके के 24, तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के 22 और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) के 22 सांसद हैं, जबकि शिवसेना विपक्ष की पांचवी सबसे बड़ी घटक पार्टी है.
    संसद के शीतकालीन सत्र से पहले रविवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई गई, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वासन दिया कि उनकी सरकार संसद में सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है.
    महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना में अलगाव के बीच हुई एनडीए की बैठक में भी शिवसेना की चर्चा हुई और घटक दलों में तालमेल बनाए जाने की मांग उठी.
    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने किसानों पर पुलिस की बर्बर कार्रवाई को लेकर योगी सरकार पर करारा हमला बोला है. वहीं, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने अयोध्या मामले पर फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका (रिव्यू पिटीशन) दाखिल करने का ऐलान किया है.
    कई बैंकों के विलय के बाद अब मोदी सरकार तीन सरकारी सामान्य बीमा कंपनियों के विलय की दिशा में आगे बढ़ रही है.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay