एडवांस्ड सर्च

एडवोकेट रोहित श्रीवास्तव ने बताया कि आईपीसी की धारा 34 और 149 के तहत हिंसक भीड़ में शामिल हर व्यक्ति हिंसा के लिए समान रूप से जिम्मेदार होता है. हिंसक भीड़ में शामिल कोई भी व्यक्ति यह कहकर बच नहीं सकता है कि वह सिर्फ भीड़ में शामिल था, लेकिन हिंसा नहीं की.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    दुनियाभर में धार्मिक स्वतंत्रता के मसले पर रिपोर्ट तैयार करने वाली अमेरिकी एजेंसी ने भारत को लेकर कई बातें कही हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में धार्मिक स्वतंत्रता की स्थिति खराब हुई है.
    पुणे के दौंड रेलवे स्टेशन के पास कुछ यात्रियों के बीच सीट को लेकर झगड़ा हुआ था. इस हादसे में एक शख्स की हत्या भी हुई थी जिसको लेकर सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक रंग देकर वायरल किया जा रहा है.
    ओखला की सियासत में तीन बार जमानत जब्त होने के बाद भी अमानतुल्ला खान ने अपने कदम पीछे नहीं खींचे. 2015 के चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी ज्वाइन किया और देखते ही देखते केजरीवाल के करीबी बन गए. 2015 और 2020 में वह रिकॉर्ड मतों से जीतकर विधायक बने और आज आम आदमी पार्टी के मुस्लिम चेहरे हैं.
    पुलिस के मुताबिक इस मामले में भुवान सिंह ने ही साजिश रची थी और बच्चा चोर होने की अफवाह फैलाई थी. इस मामले में पुलिस अलग-अलग जगहों पर आरोपियों की तलाश कर रही है.
    भोपाल में गिरफ्तार महिला अपने की पति की मौत के बाद ड्रग्स कारोबार संभाल रही है, पुलिस अभी उससे पूछताछ कर रही है.        
    तीन किसान थान सिंह रावत, पदम सिंह चौहान और कन्हैया लाल पटेल कृषि मंत्री से मिलने भोपाल स्थित उनके आवास आ पहुंचे थे. तीनों अपनी शिकायत लेकर कुक्षी से भोपाल आए थे. लेकिन कृषि मंत्री को तुरंत रवाना होना था. लिहाजा, उन्होंने किसानों को भी अपने साथ बैठा लिया.
    मुख्यमंत्री कमलनाथ के मीडिया कोऑर्डिनेटर और प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने गुरुवार शाम ट्वीट कर मॉब लिंचिंग के एक आरोपी रमेश जूनापानी की पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ फोटो जारी की है.
    इस मॉब लिंचिंग की घटना के बाद गुरुवार को सरकार के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने इंदौर में भर्ती घायलों से मुलाकात की. उन्होंने बताया कि घायलों के इलाज का पूरा खर्चा सरकार की तरफ से उठाया जाएगा.
    00:25
    मध्यप्रदेश के धार से मॉब लिंचिंग की सनसनीखेज तस्वीर सामने आई है. यहां पैसे के लेनदेन विवाद में एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई, जबकि दूसरा जख्मी हो गया. आरोप है कि जिस व्यक्ति की मौत हुई है उसने अपने खेत में काम करने के लिए बोरलाई गांव के मजदूरों को पैसे दे रखे थे, लेकिन मजदूरों ने पैसा लेने के बाद भी मजदूरी नहीं की. पैसा वापस मांगने गए लोगों पर गांववालों ने हमला कर दिया, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई. देखें ये रिपोर्ट.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay