एडवांस्ड सर्च

बसपा सुप्रीमो मायावती ने चुनाव न लड़ने के ऐलान के बाद अपने कार्यकर्ताओं से मायूस न होने की अपील की है. उन्होंने कहा कि अभी मेरे चुनाव नहीं लड़ने के फैसले से लोगों को कतई मायूस नहीं होना चाहिए.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    07:35
    बसपा प्रमुख मायावती ने ऐलान किया है कि वह इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी. उन्होंने कहा कि अभी मेरे जीतने से ज्यादा गठबंधन की सफलता ज्यादा जरूरी है. मायावती ने कहा कि अगर चुनाव के बाद कोई स्थिति बनती है तो वह किसी भी सीट को खाली कराकर चुनाव लड़ सकती हूं और जीत भी सकती हूं. उन्होंने कहा कि बसपा के आंदोलन के खिलाफ विरोधी कई तरह के हथकंडे अपना रहे हैं.
    बसपा सुप्रीमो मायावती ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि वे लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी. बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि मैं चाहूं तो कहीं से भी चुनाव लड़ सकती हूं. लेकिन मेरे जीतने से ज्यादा गठबंधन की एक-एक सीट की जीत अहम है.
    भतीजे अखिलेश यादव और चचेरे भाई राम गोपाल यादव से बागी होकर शिवपाल यादव उसी समाजवादी पार्टी को मिटाने के लिए फिरोजाबाद सीट से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे, जिसे उन्होंने नेताजी यानी मुलायम सिंह के साथ खड़ा किया था. 
    लोकसभा चुनाव 2019 का बिगुल बजने के बाद प्रियंका गांधी सोमवार को प्रयागराज से पूर्वांचल के चुनावी अभियान की शुरुआत कर चुकी हैं. इस दौरान प्रयाग से वाराणसी तक का गंगा नदी के सहारे 140 किमी का सफर तय करके पांच लोकसभा सीटें साधने की कवायद की. लेकिन सिर्फ इतने से नहीं सधेगा पूरा पूर्वांचल, क्योंकि प्रियंका गांधी की जिम्मे सूबे की 41 लोकसभा सीटें हैं.
    देश, दुनिया, खेल, बिजनेस और बॉलीवुड में क्‍या कुछ हुआ? जानने के लिए यहां पढ़ें, समय के साथ साथ खबरों का लाइव अपडेशन.
    सपा के चुनाव निशान साइकिल से सा और बसपा के चुनाव चिन्ह हाथी से थी लेकर 'साथी' बनाया है. इसके साथ ही नारा दिया है कि महागठबंधन से महापरिवर्तन. यही नहीं, सपा के साइकिल के पहिए और बसपा के हाथी सूंड को जोड़कर नया लोगो रचा है.
    मुख्यमंत्री के तौर योगी आदित्यनाथ ने दो साल के कार्यकाल में एक के बाद एक ऐसे कदम उठाए हैं, जो उनकी परंपरागत छवि के बिल्कुल विपरीत है. योगी ताजमहल के बाहर झाड़ू लगाने से लेकर नोएडा आकर मिथक तोड़ने का साहस भरा कदम उठाया.
    मोदी सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वाले सभी दलों के नेता कई बार एक मंच पर साथ आ चुके हैं. यहां तक कि गठबंधन के न्यूनतम साझा प्रोग्राम पर भी मंथन हो चुका है, लेकिन चुनाव नजदीक आते-आते राज्यों में बड़ा दखल रखन वाले ये दल कांग्रेस से अलग खड़े नजर आ रहे हैं और बिना कांग्रेस को साथ लिए ही चुनाव लड़ रहे हैं.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए 'मैं भी चौकीदार' अभियान पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को तंज करते हुये कहा कि पिछले चुनाव में चायवाला और अब चौकीदार..., देश वाकई बदल रहा है. बाद में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी चौकीदार मुद्दे पर सरकार की खिंचाई की.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay