एडवांस्ड सर्च

राज्य में होने वाले 11 विधानसभा उपचुनाव भाजपा और योगी सरकार के कामकाज की अग्निपरीक्षा होगी, जबकि विपक्ष की रणनीति भी तय होगी

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    मंत्रियों के प्रशिक्षण का कार्यक्रम पूरे दिन चलेगा. इसके अलावा 2 दिन और मंत्रियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. प्रशिक्षण पाने वाले मंत्री व्यवहारिक और राजनीतिक जीवन में इस अनुभव को साझा करेंगे. साथ ही साथ अपने दैनिक का कामकाज में इस प्रशिक्षण का प्रयोग भी करेंगे.
    बीते विधानसभा और लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करने वाली भाजपा के लिए उपचुनाव में जीत हासिल करना बड़ी चुनौती.
    यूपी बीजेपी के अध्यक्ष और मौजूदा केंद्रीय मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि हमने कई बार ये बात कही थी कि इस गठबंधन के पीछे कोई नीति नहीं है बल्कि सत्ता में आने के लिए गठबंधन है.
    कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दलों के बागी नेता लगातार बीजेपी की ताकत बनते जा रहे हैं. पूर्वोत्तर में हेमंत बिस्वा सरमा, पश्चिम बंगाल में मुकुल रॉय, कर्नाटक में एसएम कृष्णा सहित हरियाणा और उत्तर प्रदेश में विपक्ष के बागी नेता बीजेपी के लिए  संजीवनी बनकर उभरे हैं.
    Lok Sabha Chunav Unnao Result 2019 :17वीं लोकसभा चुनाव के तहत उत्तर प्रदेश की उन्नाव सीट से भाजपा प्रत्याशी साक्षी महाराज ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी गठबंधन उम्मीदवार सपा के अरुण शंकर शुक्ला को चार लाख 956 मतों से हरा दिया है.
    उत्तर प्रदेश के उन्नाव से चुनाव लड़ रहीं अनु टंडन यहां से 2009 में सांसद रह चुकी हैं. 2014 में वह बीजेपी के साक्षी महाराज से हार गईं. 2019 में फिर दोनों आमने-सामने हैं.
    उन्नाव लोकसभा सीट पर इस बार 9 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. लेकिन मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी के निवर्तमान सांसद स्वामी साक्षी महाराज का समाजवादी पार्टी के अरुण शंकर शुक्ला और कांग्रेस की अन्नू टंडन के बीच है. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने सतीश कुमार शुक्ला को यहां से चुनावी मैदान में उतारा है. इस सीट पर महज एक उम्मीदवार बतौर निर्दलीय चुनाव में किस्मत आजमा रहा है.
    उन्नाव लोकसभा सीट पर इस बार 9 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. लेकिन मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी के निवर्तमान सांसद स्वामी साक्षी महाराज का समाजवादी पार्टी के अरुण शंकर शुक्ला और कांग्रेस के अन्नू टंडन के बीच है. प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने सतीश कुमार शुक्ला को यहां से चुनावी मैदान में उतारा है. इस सीट पर महज एक उम्मीदवार बतौर निर्दलीय चुनाव में किस्मत आजमा रहा है.
    Loksabha elections 2019 बीजेपी के आंतरिक सर्वे में ये बात सामने आई है कि कुछ सांसदों के प्रति जनता में नाराजगी है, जिसके चलते उनके टिकट काटे जा सकते हैं. पार्टी इन सांसदों की जगह योगी सरकार के मंत्रियों को चुनाव लड़ा सकती है.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay