एडवांस्ड सर्च

प्रसून जोशी के जन्मदिन पर बता रहे हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ रोचक किस्सों के बारे में. उन्होंने 17 साल की उम्र में एक किताब लिखी थी.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    हिंदुस्तान आज चांद पर ऐतिहासिक कदम रखने जा रहा है और इस ऐतिहासिक पल के लिए सेंसर बोर्ड के चीफ और मशहूर गीतकार प्रसून जोशी ने एक कविता इस प्रोजेक्ट को डेडिकेट की है.
    स्वर कोकिला लता मंगेशकर सिर्फ देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में अपनी गायकी के लिए जानी जाती हैं. इसमें कोई संदेह नहीं कि लता मंगेशकर देश के उन चुनिंदा कलाकारों में से हैं जिन्होंने देश का नाम गर्व से ऊंचा किया है. 28 सितंबर, 2019 को लता मंगेशकर 90 साल की होने जा रही हैं.
    नए लोगो और प्रमाण पत्र की पहचान सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन के अध्यक्ष द्वारा दी गई. नए लोगो और सर्टिफिकेट को लेकर सेंसर बोर्ड के चीफ प्रसून जोशी उत्साहित हैं. प्रसून का कहना है कि नए लोगो का डिजाइन भविष्य को सोच कर किया गया है.
    साहित्य के सबसे बड़े महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019' की घोषणा हो चुकी है. यह मेला इस साल 1 नवंबर से 3 नवंबर को लगेगा. इसके लिए फ्री रजिस्ट्रेशन की शुरुआत हो चुकी है.
    भारतीय जनता पार्टी की दिग्गज नेता और भारत की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का 67 साल की उम्र में एम्स में निधन हो गया. सुषमा स्वराज के निधन के बाद पूरे देश में शोक है. सुषमा स्वराज के निधन पर बॉलीवुड के सितारों ने सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धाजलि दी है.
    फिल्ममेकर अशोक पंडित और अनुराग कश्यप के बीच ट्विटर पर टकराव देखने को मिला है.
    ऐसा कम ही होता है कि किसी की बात जावेद अख्तर को नाराज कर जाए. जावेद अपनी सोच को खुलकर बयां करते हैं लेकिन उन्हें गुस्सा होते शायद ही किसी ने देखा होगा. लेकिन रव‍िवार को फिल्मकार शेखर कपूर के ट्वीट से जावेद अख्तर भड़क गए है और उन्होंने शेखर को दिमाग के डॉक्टर के पास जाने की हिदायत दे डाली.
    देश के विभिन्न हिस्सों में अल्पसंख्यकों के प्रति होने वाली हिंसा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने वाले 49 बुद्धिजीवियों के खिलाफ बिहार की एक अदालत में याचिका दायर की गई है. एक वकील ने भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत के समक्ष याचिका दायर की है.
    मॉब लिंचिंग पर 49 हस्तियों के मोदी सरकार को लिखे लेटर के जवाब में अब 62 हस्तियों ने खुला खत लिखा है. उन्होंने पूछा कि जब आदिवासियों को माओवादी को निशाना बनाते हैं तब ये क्यों चुप क्यों रहते हैं.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay