एडवांस्ड सर्च

सर्वे के मुताबिक, 43 प्रतिशत ने लोगों ने कहा कि केंद्र और राज्य दोनों ही सरकारें कोरोना संंकट के दौरान प्रवासी श्रमिकों के सामूहिक पलायन के लिए जिम्मेदार थीं.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    इंडिया टुडे-कार्वी इनसाइट्स मूड ऑफ द नेशन (MOTN) सर्वे में 14 फीसदी मतों के साथ अटल बिहारी वाजपेयी दूसरे और इंदिरा गांधी 12 प्रतिशत मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहीं.
    23 प्रतिशत लोगों को लगता है कि राहुल गांधी ही कांग्रेस नेतृत्व के लिए बेस्ट पर्सन हैं. वहीं, 18 प्रतिशत लोगों का मानना है कि कांग्रेस की कमान पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की सौंप देनी चाहिए.
    जनवरी 2020 में किए गए MOTN सर्वे में 26 प्रतिशत लोगों ने माना था कि नागरिकता संशोधन कानून भेदभावपूर्ण था. हालांकि, इस बार टैली फिसलकर 15 फीसदी तक पहुंच गई है.
    सुब्रत बासु उत्तर 24 परगना जिले के अशोक नगर का सक्रिय बीजेपी कार्यकर्ता है. सुब्रत बासु ने बताया कि 5 अगस्त को उसने अपने घर में भगवान राम की पूजा की थी. बीजेपी कार्यकर्ता का आरोप है कि गुरुवार को रात आठ बजे उसके घर में कई टीएमसी कार्यकर्ता घुस गए और उसके घर में तोड़ फोड़ की.
    मूड ऑफ द नेशन के इस सर्वे में 70 फीसदी लोगों ने कोरोना वायरस को वर्तमान भारत की सबसे बड़ी समस्या बताया. शहरी क्षेत्र में 74 फीसदी लोग कोरोना महामारी को मौजूदा भारत की सबसे बड़ी समस्या मानते हैं तो ग्रामीण भारत के 68 फीसदी लोग कोरोना महामारी को देश की सबसे बड़ी समस्या मानते हैं.
    Indian Railway Cancelled Special Trains in West Bengal Due to Lockdown: रेलवे के मुताबिक पश्चिम बंगाल में कोरोना (Covid-19) के बढ़ते मामलों को देखते हुए लागू साप्ताहिक संपूर्ण लॉकडाउन की वजह से ट्रेनों को कैंसिल किया गया है. पूर्व रेलवे (Eastern Railway) के अनुसार 8 अगस्त को चलने वाली हावड़ा-नई दिल्ली राजधानी स्पेशल और हावड़ा-नई दिल्ली पूर्वा एक्सप्रेस को भी रद्द कर दिया गया है.
    मोदी सरकार ने पिछले साल नागरिकता कानून के जरिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए गैर-मुस्लिमों को भारत की नागरिकता देने के लिए कानून बनाया. इस कानून को मोदी सरकार भले ही अपनी अहम उपलब्धि बताती हो, लेकिन सर्वे में लोग इससे सहमत नहीं दिखे. महज एक फीसदी लोग ही सीएए को मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि के तौर पर मानते हैं
    लोगों से ये सवाल पूछा गया कि यदि सिनेमाघर खोल दिए जाते हैं तो क्या वे फिल्में देखने के लिए सिनेमाघरों का रुख करेंगे? चलिए जानते हैं इस सवाल पर लोगों की क्या प्रतिक्रिया रही.
    पिछले कुछ महीनों में फिल्मों की रिलीज भले ही काफी कम रही हो लेकिन यदि अब फिल्मों को रिलीज किया जाएगा तो किस कलाकार की फिल्म के ज्यादा बेहतर प्रदर्शन करने की गुंजाइश है? ये सवाल जब लोगों से पूछा गया तो उन्होंने ऐसे जवाब दिए.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay