एडवांस्ड सर्च

साल 1929 की महामंदी से अब तक हमने यह देखा है कि आम धारणा के विपरीत शेयर बाजारों के प्रदर्शन का रियल इकोनॉमी से कोई लेना-देना नहीं रहा है. इसलिए शेयर बाजारों की तेजी को अर्थव्यवस्था में तरक्की का पैमाना नहीं माना जाता.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा है कि यह बहुत मुश्किल स्थिति है. हम भारत और चीन दोनों से बात कर रहे हैं. उनके बीच वहां बड़ी समस्या हो गई है.
    अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने चीन के साथ संघर्ष में शहीद हुए भारत के बीस जवानों के प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त की है.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के साथ रिश्ते सुधारने के लिए हरसंभव पहल की और 5 बार खुद वहां का दौरा किया. वहीं, अटल बिहारी वाजपेयी ने पीएम रहते हुए महज एक बार चीन का दौरा किया. चीन को लेकर उनकी अपनी अलग नीति थी, जिसके दम पर वह भारत-चीन संबंधों और सीमा संबंधी मसले का हल निकाल रहे थे.
    पिछले साल ही बीजिंग ने अमेरिका को धमकी दी थी कि दोनों अर्थव्यवस्थाओं के बीच ट्रेड वॉर बढ़ने पर वो रेअर-अर्थ खनिजों के निर्यात को बाधित कर देगा.
    दिल्ली में बारिश होने से न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. विभाग के मुताबिक अगले दो दिनों तक तापमान के 40 डिग्री से नीचे रहने का अनुमान है.
    चीन ने कहा है कि बेहतर होगा कि भारत इस कोल्ड वॉर से बाहर रहे जिससे कि दोनों देशों के बीच चल रहे व्यापारिक संबंध बने रहें. चीन ने कहा है कि भारत के साथ व्यापारिक संबंध बेहतर बनाए रखना ही उसका लक्ष्य है.
    WHO के मुताबिक ह्यूमन ट्रायल स्टेज में दस वैक्सीन कैंडीडेट्स में से पांच अकेले चीन से हैं और शेष अन्य देशों से हैं, जिनमें अमेरिका और ब्रिटेन भी शामिल हैं. आमतौर पर सुरक्षित और प्रभावी वैक्सीन विकसित करने में वर्षों या एक दशक या उससे अधिक समय लगता है. इस वक्त को परियोजना में शामिल लगभग सभी दवा निर्माता महामारी की वजह से इसे कम करने की कोशिश कर रहे हैं.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब अपने पिछले कार्यकाल के अंतिम दिनों में थे, तब से ही देश की अर्थव्यवस्था पटरी से उतरनी शुरू हो चुकी थी. जीडीपी का आंकड़ा गिरता जा रहा था. भ्रम की स्थिति थी. उनके सत्ता में आने के बाद साल भर अर्थव्यवस्था हिचकोले खाती रही. तभी कोरोना जैसा बड़ा संकट आ गया. एक साल पहले जब पीएम मोदी के नेतृत्व में दूसरी बार सरकार का गठन हुआ तो देश की अर्थव्यवस्था के सामने कई तरह की चुनौतियां थीं.
    ये तेरा कोरोना. ये मेरा करोना. इस बहस में अभी तक तो सिर्फ ब्लेम गेम चल रहा था. अमेरिका और चीन में असली लड़ाई तो अब शुरू होने जा रही है. कायदे से देखें तो फिलहाल चीन बैकफुट पर है और कोरोना वायरस के मामले में खुद को डिफेंड कर रहा था. वहीं अमेरिका लगातार उसपर दबाव बनाता जा रहा है.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay