एडवांस्ड सर्च

06:55

सूर्य 16-17 नवंबर को मध्य रात्रि वृश्चिक राशि में प्रवेश कर रहे हैं. वृश्चिक राशि में सूर्य की स्थिति बेहतर मानी जाती है. माना जाता है कि इस समय सूर्य अपनी कमजोर स्थिति से बाहर आ जाता है. चाल चक्र में आज बताएंगे कि सूर्य के राशि परिवर्तन के अच्छे-बुरे प्रभावों के बारे में. साथ ही जानिए राशियों का हाल.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    08:48
    चाल चक्र में आपको बताएंगे भोजन का ग्रहों और हमारी किस्मत से क्या कनेक्शन है. बता दें कि हर खाद्य पदार्थ अपने रंग और गुणों के कारण अलग-अलग ग्रहों से संबंध रखता है. जिस तरह का खाद्य  पदार्थ हम खाते हैं उससे संबंधित ग्रह को काफी शक्ति मिलती है. इसलिए जिस ग्रह को मजबूत करना है उससे संबंधित भोजन ग्रहण करना चाहिए. साथ ही जानिए राशियों का हाल.
    07:36
    चाल चक्र में आज हम आपको बताएंगे विवाह के लिए कुंडली मिलान कितना जरूरी है? क्या कुंडली मिलान होने से विवाह के सफल होने की गारंटी दी जा सकती है?  बालक और बालिका के मध्य प्रेम और तालमेल अच्छा रहे. तथा दोनों एक साथ कम से कम संघर्ष करें, इसके लिए कुंडली मिलान किया जाता है. कुंडली मिलान में बहुत सारी चीज़ों पर विचार किया जाता है. इनमे प्रमुख हैं- नाड़ी दोष, ग्रह मैत्री, गण, भकूट और मंगल दोष. हर चीज़ का अपना महत्व है और सबका विचार किया जाता है.  
    08:10
    चाल चक्र में आज हम आपको बताएंगे ब्लड ग्रुप का आहार से संबंध के बारे में. हम जो भी खाते हैं वो हमारे शरीर के रसायनों के साथ मिलकर प्रतिक्रिया करता है. इसका असर हमारे मन, शरीर पर अलग-अलग तरह से होता है.  हर व्यक्ति के ब्लड ग्रुप के अनुसार उसकी डाइट भी अलग होती है. हर व्यक्ति की आधारभूत संरचना अलग होने के कारण उनके शरीर की भोजन की मांग भी अलग होती है. जब हम अपने ब्लड ग्रुप के अनुसार डाइट लेते हैं, तो एंटीजन और लेक्टिन्स, दोनों मिलकर हमारे शरीर की रक्षा प्रणाली को बढ़ा देते हैं. सही भोजन प्रणाली से हमारे शरीर को रोग प्रतिरोधी लेक्टिन्स प्राप्त होते है और दोनों मिलकर हमारे शरीर की रक्षा प्रणाली को बढ़ा देते हैं. ब्लड ग्रुप के अनुसार डाइट लेने से स्वास्थ्य में अचानक परिवर्तन आ सकता है.
    07:24
    चाल चक्र में आज हम आपको बताएंगे मार्गशीर्ष महीने का महत्व क्या है? यह हिंदू पंचांग का नौवां महीना है. इसे अग्रहायण या अगहन का महीना भी कहते हैं. इसे हिंदू शास्त्रों में सर्वाधिक पवित्र महीना माना जाता है. यह इतना पवित्र है कि भगवान गीता में कहते हैं कि महीनों में, मैं मार्गशीर्ष हूं. इसी महीने से सतयुग का आरंभ माना जाता है. कश्यप ऋषि ने इसी महीने में कश्मीर की रचना की थी. इस महीने को जप तप और ध्यान के लिए सर्वोत्तम माना जाता है. इस महीने में पवित्र नदियों में स्नान करना विशेष फलदायी होता है.  इस बार मार्गशीर्ष का महीना 13 नवंबर से 12 दिसंबर तक रहेगा.
    04:29
    चाल चक्र में आज हम आपको बताएंगे कार्तिक पूर्णिमा के महत्व के बारे में. कार्तिक मास की पूर्णिमा को कार्तिक पूर्णिमा कहा जाता है. इस पूर्णिमा का शैव और वैष्णव, दोनों ही सम्प्रदायों में बराबर महत्व है. इस दिन शिव जी ने त्रिपुरासुर नामक राक्षस का वध किया था और विष्णु जी ने मत्स्य अवतार भी लिया था. इसी दिन गुरुनानक देव का जन्म भी हुआ था. इसलिए इस दिन को प्रकाश और गुरु पर्व के रूप में भी मनाया जाता है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने और दीपदान करने का विशेष महत्व है. कार्तिक पूर्णिमा पर दान करने का विशेष महत्व है. इस दिन दान करने से ग्रहों की समस्या को दूर किया जा सकता है. 
    07:40
    चाल चक्र में आज आपको बताएंगे कि हाथ की उंगलियों का आपकी किस्मत से क्या कनेक्शन है. जानिए कैसे किस्मत की किताब खोलती हैं उंगलियां. साथ ही जानिए राशियों की सटीक भविष्यवाणी और गुडलक टिप्स.
    06:17
    चाल चक्र के इस एपिसोड में जानिए कैसा रहेगा आपका रविवार और क्या कहती हैं आपकी राशियां. साथ ही जानें आज का पंचांग और स्वस्थ रहने के सरल उपाय. देखें वीडियो.
    06:14
    चाल चक्र में हम आपको बताएंगे निरोग रहने का विशेष प्रयोग. अगर आंखों की रोशनी कम हो रही हो तो रात में किशमिश भिगोकर सुबह उसका पानी पिएं. ऐसा करने से आपकी नेत्र ज्योति बढ़ेगी, आखों की रोशनी में सुधार होगा. साथ ही हम आपको बताएंगे आपका दैनिक राशिफल.
    07:50
    चाल चक्र के आज के एपिसोड में जानें कि क्या है देवोत्थान एकादशी और इसका महत्व? साथ ही जानें देवोत्थान एकादशी की महिमा. भगवान विष्णु आषाढ़ शुक्ल एकादशी को चार माह के लिए योगनिद्रा में चले जाते हैं और फिर कार्तिक शुक्ल एकादशी को जागते हैं. इन चार महीनो में देव शयन के कारण समस्त मांगलिक कार्य वर्जित होते हैं. देखें वीडियो.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay