एडवांस्ड सर्च

13:26

एस्ट्रो अंकल में आज हम बात करेंगे अपरा एकादशी की महिमा और महत्व की. अपरा एकादशी पर किस तरीके से भगवान विष्णु की पूजा करें ताकि अनजाने में हुई गलती का दुष्प्रभाव आप पर न आये. ज्येष्ठ मास में कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को अपरा एकादशी के रूप में मनाया जाता है. अपरा एकादशी पर अनजाने में हुई गलतियों और पापों को नष्ट के लिए भगवान विष्णु की पूजा अर्चना की जाती है. अपरा एकादशी पर विष्णु यंत्र की पूजा अर्चना भी की जाती है. अपरा एकादशी पर श्रद्धालु पूरा दिन व्रत रहकर  शाम के समय भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करते हैं जिससे उनको मनोवांछित फल मिल सके. अपनी गलतियों की क्षमा प्राप्ति के लिए अपरा एकादशी पर विधि विधान से पूजा अर्चना करने से भगवान विष्णु की कृपा अवश्य मिलती हैं.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
हिन्‍दू पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ मास में कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को अपरा एकादशी के रूप में मनाया जाता है. अपरा एकादशी के दिन अनजाने में हुई गलतियों और पापों को नष्ट के लिए भगवान विष्णु की पूजा अर्चना की जाती है.इस बार अपरा एकादशी 30 मई को है.
List of Vrat and Festival in May 2019: मई के महीने में कई महत्वपूर्ण व्रत-त्योहार पड़ने वाले हैं. जानिए- इस महीने में किस दिन कौन सा त्योहार मनाया जाएगा.
पद्मा एकादशी को क्या उपाय करें कि लाभ हो.
हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि एकादशी व्रत करने वाले के समस्त पापों का नाश हो जाता है. प्रभु इस व्रत से प्रसन्न होकर साधक को अनंत पुण्य देते हैं.
हिन्‍दू पंचांग के अनुसार 30 मई को ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी मनाई जाएगी. इसे अपरा और अचला एकादशी कहा जाता है. हिंदू धर्म में व्रतों में प्रमुख व्रत नवरात्रि, पूर्णिमा, अमावस्या तथा एकादशी को ही माना जाता है. बात अगर इन सभी व्रतों की करें तो इनमें भी सबसे बड़ा व्रत एकादशी का ही माना जाता है.

एडवांस्ड सर्च

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay