एडवांस्ड सर्च

हिंदू धर्म में व्रत-पूजा का खास महत्व है. इनमें से एक है सौभाग्य सुंदरी व्रत. आइए जानते हैं आखिर क्यों रखा जाता है ये व्रत और क्या है इस व्रत की महिमा.

Speak Now



x
Languages:    हिन्दी    English
About 30374 results (4 seconds)
    12:29
    एस्ट्रो अंकल आज आपको बताएंगे अगहन पूर्णिमा पर धनलाभ के चार महा उपाय के बारे में. हर काम के लिए धन जरूरी होता है.  अच्छा खाना चाहिए तो धन चाहिए , अच्छे वस्त्रों के लिए धन चाहिए, गाड़ी-घर के लिए भी धन चाहिए. बच्चों की शिक्षा के लिए भी धन चाहिए. बाहर घूमने, तीर्थ यात्रा के लिए भी धन चाहिए. मेहमानों की सेवा और रिश्तेदारी निभाने ले लिए भी धन चाहिए. आज हम आपको मालामाल होने के चार आसान उपाय बनाएं. 22 दिसंबर को अगहन की शनि पूर्णिमा है, चंद्रमा वृषभ राशि में उच्च का है, दत्तात्रेय जयंती मनाई जाएगी, शुभ संयोग बना है.
    अगहन पूर्णिमा पर कोई भी काम करेंगे तो फलदायी साबित होगा.
    अगहन महीने की अमावस्या में लक्ष्मी पूजन का विशेष महत्व होता है.
    आइए जानते हैं मार्गशीर्ष महीने का क्या महत्व होता है और इस महीने में किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए....
    पौष मास आने से नौकरी को खतरा होगा. कोई नयी नौकरी, व्यापार भी शुरू नहीं कर सकते हैं.
    रविवारी पूर्णिमा में लोहबान जलाओ और किस्मत चमकाओ. रविवार को चन्द्रमा की अगहन पूर्णिमा है. चन्द्रमा वृष राशि में उच्च का है. इस पूर्णिमा को चंद्र  की लोहबान धूप और चन्द्रमा का चावल सबका भला कर सकती है. लोहबान हवन करते वक्त हवन सामग्री में मिलाया जाता है. लोहबान और चावल चन्द्रमा के कारक होते हैं. लोहबान और चावल से हवन में आहुति देते हैं. चन्द्रमा बलवान होता है --काम में मन लगता है. उससे मान सम्मान बढ़ता है. 
    इस तिथि को भगवान राम ने जनक नंदिनी सीता से विवाह किया था जिसका वर्णन श्रीरामचरितमानस में महाकवि गोस्वामी तुलसीदासजी ने रोचक तरीके से किया है.
    17:09
    अगहन मास की संक्रांति का बहुत महत्व है. सूर्य जब तुला राशि से वृश्चिक राशि में जाता है तो उसे बोलते हैं अगहन की संक्रांति. इस दिन सूर्य की नीचता भंग हो जाती है. तो सूर्य की नीचता भंग होने से धन, मान और सम्मान का लाभ मिलेगा, परेशानियां दूर होंगी. 16 नवंबर गुरुवार को सूर्य दोपहर 12 बजकर 21 मिनट  पर वृश्चिक राशि में आएंगे. इस बार संक्रांति गुरुवार को पड़ रही है. और गुरु धन और वैभव देता है, यश मिलेगा, प्रमोशन होगा, सबके जीवन में खुशियां आएंगी. तो जानिए अगहन संक्रांति का आपके जीवन पर क्या असर होगा.
    कहते हैं कि मार्गशीर्ष के महीने में जो भी साधक श्रीकृष्ण के मंत्र का जाप करता है, वासुदेव कृष्ण उसकी सभी इच्छाएं और अभिलाषाएं पूरी करते हैं.

    एडवांस्ड सर्च

    रिलेटेड स्टोरी

    No internet connection

    Okay