एडवांस्ड सर्च

Advertisement

बेस्ट यूनिवर्सिटी सर्वेक्षण 2014: डीयू पहले नंबर पर कायम

उद्योग और शिक्षा जगत की जरूरतों को पूरा करते हुए अपनी विरासत कायम रखे हुए है 94 साल पुरानी दिल्ली यूनिवर्सिटी. इंडिया टुडे-नीलसन सर्वेक्षण 2014 में पहले पायादन पर.
बेस्ट यूनिवर्सिटी सर्वेक्षण 2014: डीयू पहले नंबर पर कायम
सोनाली आचार्जीनई दिल्ली, 30 October 2014

अमृता अरोड़ा संस्कृत अनुवाद के लेक्चर लेने के बाद तीसरे पहर में स्टैटिस्टिकल मैकैनिक्स और इलेक्ट्रोमैग्नेटिक थ्योरी पढ़ती हैं. 19 वर्षीया अमृता की शिक्षा संबंधी दिनचर्या का अंत कर्नाटक संगीत के इतिहास के सेशन पर होता है. दिल्ली यूनिवर्सिटी में संस्कृत ऑनर्स की पहले वर्ष की इस छात्रा की तरह 1,70,000 छात्र-छात्राएं चार वर्ष के नए डिग्री कोर्स का फायदा ले रहे हैं.

पिछले साल शुरू किए गए इस प्रोग्राम पर विवाद भी रहा है और इसकी सराहना भी हुई है. कोर्स के ढांचे में बदलाव के बावजूद 94 साल पहले स्थापित यह विश्वविद्यालय आज भी देश में अव्वल है. बेहतरीन शिक्षा और छात्रों की देखभाल के प्रति इसकी निष्ठा इतनी लोकप्रिय है कि साइंस और टेक्नोलॉजी महकमे (डीएसटी) ने इस साल विश्वविद्यालय को 50 करोड़ रु. का अनुदान दिया है. देश में किसी संस्था को इससे पहले इतनी बड़ी रकम नहीं दी गई.

दिल्ली यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर दिनेश सिंह कहते हैं, ''पिछले साल विश्वविद्यालय में कई नई बातें जुड़ी हैं और कई उपलब्धियां हासिल हुई हैं. लेकिन हमारा मुख्य ध्यान छात्रों के लिए व्यावहारिक और खुद सीखने के मौके बढ़ाने पर है.” दिल्ली यूनिवर्सिटी ने इस दिशा में नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएसडीसी) के साथ विशेष समझौता किया है जिससे छात्रों को स्वास्थ्य, आइटी, वित्त और बैंकिंग क्षेत्रों में प्रशिक्षण मिलेगा.

इतना ही नहीं, विश्वविद्यालय के सभी 65 कॉलेजों में लघु और मझौले उद्योग मंत्रालय के साथ हुए समझौते के माध्यम से अपने प्रारंभिक कारोबार केंद्र स्थपित किए जाएंगे. ये केंद्र हर छात्र की कारोबारी योजना के लिए 12 लाख रु. बीज राशि के तौर पर मुहैया कराएंगे. विश्वविद्यालय ने दिल्ली में सरकारी एजेंसी सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पाक्र्स ऑफ  इंडिया के साथ चिप डिजाइन यूनिट लगाने के लिए 26 करोड़ रु. के समझौते पर भी हस्ताक्षर किए हैं.

वे यह भी बताते हैं कि ''चिप बनाने की नई यूनिट न सिर्फ छात्रों को एक प्रमुख कौशल देगी बल्कि देश में चिप का आयात कम करने में भी मदद मिलेगी. दूसरी ओर वोकेशनल ट्रेनिंग, आन्ट्रेप्रेन्योर मेंटरिंग और विभिन्न विषयों के बीच संपर्क से छात्रों में रोजगार मांगने की बजाए रोजगार देने की क्षमता पिरोने में मदद मिलेगी. हमने कई ऐसे नए कोर्स भी शुरू किए हैं जिनकी जॉब मार्केट में मांग बढ़ रही है. इनमें फॉरेंसिक्स में बीटेक शामिल है.”

दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के अलावा दूसरी गतिविधियों पर भी जोर दिया जाता है. लड़कियों की फुटबॉल टीम लगातार दूसरे साल न्यूजीलैंड की लिंकन यूनिवर्सिटी में ट्रेनिंग लेने गई है जबकि लड़कों की हॉकी टीम विशेष कोचिंग के लिए एडिनबरा यूनिवर्सिटी गई थी. बकौल दिनेश सिंह, ''विदेश के विश्वविद्यालयों के साथ हमारा सहयोग भी बढ़ रहा है.

खेलों में सहमति-पत्रों के अलावा हमने शैक्षणिक आदान-प्रदान के लिए मिशिगन यूनिवर्सिटी के साथ एक नया समझैता किया है. ग्लासगो यूनिवर्सिटी और बेल्जियम यूनिवर्सिटी के साथ भी इसी तरह के सहमति पत्रों पर हस्ताह्नर किए गए हैं.” इन समझौतों से न सिर्फ पढऩे और नेटवर्किंग के नए रास्ते खुलते हैं बल्कि छात्रों के लिए बहुत मस्ती भी होती है.

अंग्रेजी में ग्रेजुएशन कर रहीं सेकंड ईयर की छात्रा पल्लवी मित्तल कहती हैं, ''मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि स्कॉटलैंड जाने का मौका मिलेगा. बड़ा मजा आया, नए दोस्त बने और अलग तरह के एकेडमिक माहौल से रू-ब-रू होने का बेहतरीन मौका भी मिला.”

दिल्ली यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर के लिए भी यह साल काफी मुफीद रहा और कई तरह की गतिविधियां विश्वविद्यालय में हुईं. वे शिक्षा क्षेत्र में योगदान के लिए पद्मश्री से अलंकृत हुए. इसके अलावा यूनिवर्सिटी कॉलेज कॉर्क, ह्यूस्टन यूनिवर्सिटी, एडिनबरा यूनिवर्सिटी और कुरुक्षेत्र के नेशनल टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट से उन्हें डॉक्टरेट की मानद उपाधियां मिलीं.

इस साल उनके अलावा कई अन्य शिक्षक भी सम्मानित हुए. माइक्रोबायोलॉजी विभाग के विजय चौधरी को प्रतिष्ठित डीबीटी बायोटेक प्रोडक्ट ऐंड प्रॉसेस डेवलपमेंट अवार्ड के लिए चुना गया. कुलपति के शब्दों में, ''हम औरों से इसलिए अलग हैं कि हम सिर्फ एक विश्वविद्यालय नहीं, एक समुदाय हैं. असिस्टेंट प्रोफेसर से लेकर रिसर्च स्कॉलर और पार्टटाइम छात्रों से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों तक, सबको बराबर समर्थन और प्रोत्साहन मिलता है. इस समय हम उद्योग और शिक्षा जगत की जरूरतों को पूरा करते हुए अपनी विरासत को थामे रखने की दिशा में काम कर रहे हैं.”


दिनेश सिंह, वाइस-चांसलर, दिल्ली यूनिवर्सिटी

''मैं बेजोड़ विरासत, जुनून और प्रतिबद्धता के मेल से लैस डीयू के स्वभाव से आज भी अभिभूत हूं.”

दिल्ली यूनिवर्सिटी की मेरी पहली याद बचपन की है जब मैं विश्वविद्यालय और उसके आसपास रिज पर आया करता था. 1975 में मैंने सेंट स्टीफंस कॉलेज में मैथमेटिक्स में दाखिला लिया. फिर इंपीरियल कॉलेज लंदन से पीएचडी पूरी करने के बाद मैं 1981 में स्टीफंस में ही मैथमेटिक्स पढ़ाने लगा. इतने साल में मैंने कॉलेज में अपने छात्रों और साथी शिक्षकों के साथ कई प्रेरणादायक और भाव-भीने पल बिताए हैं.

आज वाइस चांसलर के तौर पर भी मैं बेजोड़ विरासत, जुनून और प्रतिबद्धता के मेल से लैस डीयू के स्वभाव से आज भी अभिभूत हूं. पिछले कुछ वर्षों की घटनाएं मेरे मन में आज भी गहरी छाप लिए हुए हैं. इनमें इंटरडिसिप्लीनरी रिसर्च, आन्ट्रेप्रेन्योरशिप और फील्ड वर्क में वृद्धि शामिल है. विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित पहली ज्ञानोदय रेल यात्रा में अपने छात्रों को जाते देख बहुत अच्छा लगा.

वे अपने साथ देशभर की यात्रा से बहुत दिलचस्प किस्से और विचार लेकर लौटे. हमारे छात्र सांस्कृतिक और खेल गतिविधियों में भी खूब नाम कमाते हैं. विश्वविद्यालय के वार्षिक उत्सव अंतध्र्वनि के जरिए छात्रों को अपने मन की बात कहने का मौका मिलता है. कुल मिलाकर सच यह है कि छात्र और शिक्षक मिलकर ही इस विश्वविद्यालय को खास बनाने का काम करते हैं. दिल्ली यूनिवर्सिटी नए विचारों, विजन और रचनात्मकता से ओत-प्रोत समुदाय है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay