एडवांस्ड सर्च

Advertisement

उस्‍ताद फ़तेह अली खान की फरमाइश और शफ़क़त के सुर

माला सेकरीमुंबई, 19 October 2013

शफ़क़त के गुरु और चाचा उस्‍ताद फ़तेह अली खान ने उनसे अपनी पसंद के गाने की फरमाइश की तो शफ़क़त कैसे रुक सकते थे. उन्‍होंने ‘आंखों के सागर’ गाना गाकर सुनाया.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay