एडवांस्ड सर्च

हाथ नहीं, पैरों से पेंटिंग बनाकर बनाई पहचान

आपने कई सफल लोगों के बारे में पढ़ा और सुना होगा. पर क्या आपने किसी ऐसे व्यक्त‍ि के बारे में पढ़ा है, जिसने हाथों के बिना ही नाम रौशन किया हो...

Advertisement
aajtak.in
मेधा चावला नई दिल्ली, 27 January 2017
हाथ नहीं, पैरों से पेंटिंग बनाकर बनाई पहचान शीला शर्मा

यूं ही नहीं कहते कि हौसलों में उड़ान हो तो पंख की जरूरत नहीं पड़ती. शीला शर्मा का नाम ऐसे ही उदाहरणों में शामिल है.

शीला शर्मा पेशे से पेंटर हैं. पर वो अपने हाथों से पेंटिंग नहीं बनातीं, बल्क‍ि अपने पैरों से पेंटिंग बनाती हैं.

क्रिकेट छूटा पर जिंदगी को ही क्रिकेट ग्राउंड बना डाला

दरअसल, एक ट्रेन हादसे ने शीला के दोनों हाथ और पैर की तीन उंगलियां छीन लिया. इस दुर्घटना में शीला की मां का देहांत भी हो गया.

पढ़ाई में भी अव्‍वल हैं दंगल गर्ल जायरा वसीम

पर शीला ने हार नहीं मानी और पैरों से पेंटिंग बनाने की प्रैक्ट‍िस करती रहीं.

'मेमोरी गर्ल' प्रेरणा से सीखिए चुटकियों में याद करना...

आज शीला दिल्ली, लखनऊ, बेंगलुरु और मुंबई में पेंटिंग एग्जीविशन लगा चुकी हैं.

उन्हें लोग फुट पेंटर के नाम से जानते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay