एडवांस्ड सर्च

चौकीदार का बेटा बना MP बोर्ड 10वीं का टॉपर, ऐसे हासिल किया पहला स्थान

इस साल MP बोर्ड में कक्षा 10वीं के टॉपर बने आयुष्मान तामरकर ... पिता करते हैं चौकीदार का काम... जानें- कैसे की तैयारी और कैसे बने टॉपर...

Advertisement
aajtak.in [Edited by: मानसी मिश्रा ]नई दिल्ली , 16 May 2019
चौकीदार का बेटा बना MP बोर्ड 10वीं का टॉपर, ऐसे हासिल किया पहला स्थान आयुष्मान तामरकर

इस साल मध्य प्रदेश बोर्ड की कक्षा 10वीं की परीक्षा में आयुष्मान तमराकर ने पहला स्थान हासिल किया है. उन्होंने परीक्षा में 99.8 फीसदी नंबर हासिल किए हैं. अपनी सफलता का श्रेय उन्होंने अपने पिता विमल को दिया है.  बता दें, उनके पिता पेशे से चौकीदार हैं.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार आयुष्मान ने बताया कि उनके पिता शादियों में चौकीदार का काम करते हैं. इसी के साथ घर का खर्चा चलाने के लिए वह बर्तनों की मरम्मत करके भी पैसा कमाते हैं. उन्होंने कहा  मेरे पिता मेरी पढ़ाई के लिए दिन में 18 घंटे काम करते हैं. उनकी इतनी मेहनत की वजह से ही मैं बिना किसी टेंशन के पढ़ पाता हूं.

कैसे की थी तैयारी

आयुष्मान ने बताया परीक्षा की तैयाकी के दौरान पढ़ने का कोई समय तय नहीं थी. कभी घंटे देखकर पढ़ाई नहीं की. उन्होंने बताया कि मेरे पिता बिना घड़ी को देखे दिन- रात कड़ी मेहनत जुटे रहते थे, जब तक कि उनका काम पूरा न हो जाए. ठीक इसी तरह मैंने भी पढ़ाई के दौरान कभी घड़ी नहीं देखी. आयुष्मान ने कहा जब तक मेरा दिमाग थक नहीं जाता था, मैं तब तक पढता रहता था.  वहीं अपने दिमाग को आराम देने के लिए वह अपने पिताजी के साथ मिलकर हाथ बंटाते हैं.

 

आयुष्मान ने बताया कि मेरे पिताजी कभी नहीं चाहते थे कि मैं बर्तन सुधारने का काम सीखूं. इसलिए वह मुझे यह काम करने से रोक देते थे. वहीं उनके पिता विमल कहते हैं कि मैंने अपने बेटे पर कभी भी अच्छे नंबर लाने का दबाव नहीं बनाया. मैंने हमेशा उसे कठोर परिश्रम के लिए प्रेरित किया. उसकी मेहनत ने आज मेरा मान बढ़ा दिया. 

ऐसे हासिल किया पहला स्थान

आयुष्मान ने टॉपर बनने के पीछे का राज बताते हुए कहा कि वह हमेशा किसी भी विषय का गहन अध्ययन करते हैं. जब तक विषय को पूरी तरह समझ न लें, तब तक उसे पढ़ते हैं. इसी के साथ उन्होंने बताया तैयारी में मेरी मदद मेरे शिक्षकों ने भी खूब की. 

IIT में लेना चाहते हैं एडमिशन

सरकारी स्कूल में पढने वाले आयुष्मान का सपना देश के टॉप आईआईटी संस्थान से इंजीनियरिंग करने का है. आयुष्मान के पिता नहीं चाहते कि उनका बेटा उनकी ही तरह चौकीदार बने. फिलहाल आयुष्मान ने 11वीं में गणित और विज्ञान विषय में दाखिले की तैयारी कर रहे हैं.

आपको बता दें,  बुधवार को मध्य प्रदेश बोर्ड 10वीं-12वीं के परिणाम जारी किए थे. जिसमें 10वीं में 61.32 प्रतिशत स्टूडेंट्स और 12वीं में  में 72.37 प्रतिशत स्टूडेंट्स ने परीक्षा पास की है.

आपको बता दें, इस साल कक्षा 10वीं में पहला स्थान सागर जिले के गगन दीक्षित और आयुष्मान तामरकर हैं. परीक्षा में उन्होंने 500 में 499 नंबर हासिल किए हैं. दोनों के कुल प्रतिशत हैं 99.8 हैं. दूसरे स्थान पर दीपेन्द्र कुमार अहिरवार हैं. उन्होंने  497 मार्क्स हासिल किए हैं. तीसरे स्थाम पर 6 स्टूडेंट हैं. सभी को 496 मार्क्स हासिल किए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay