एडवांस्ड सर्च

सबसे कम उम्र में मैथ्स ओलंपियाड में गोल्ड मेडल जीते प्रांजल

प्रांजल ने मैथ्स ओलंपियाड में गोल्ड मेडल जीत लिया है. जानें- क्यों इस प्रतियोगिता को कहते हैं सबसे कठिन प्रतियोगिता

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 13 October 2019
सबसे कम उम्र में मैथ्स ओलंपियाड में गोल्ड मेडल जीते प्रांजल प्रांजल (फोटो- CBSE HQ)

  • प्रांजल ने मैथ्स ओलंपियाड जीता गोल्ड मेडल
  • 210 देश में से 600 प्रतिभागियों ने लिया हिस्सा

सीबीएसई के नेशनल पब्लिक स्कूल-कोरमंगला के छात्र प्रांजल ने यूनाइटेड किंगडम में इंटरनेशनल मैथ्स ओलंपियाड - 2019 में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया. बता दें, मैथ्स ओलंपियाड दुनिया भर में प्रतियोगिताओं का सबसे बड़ा और कठिन खेल माना जाता है. वह गोल्ड मेडल जीतने वाले भारत की ओर से सबसे कम उम्र के छात्र बन गए हैं. आपको बता दें, प्रतियोगिता में 210 देश थे और 600 से अधिक प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था.

जानें- क्या है मैथ्स ओलंपियाड प्रतियोगिता

ओलंपियाड परीक्षाएं विद्यार्थियों को गणित और विज्ञान के कांसेप्ट रटने की जगह सीखने की प्रेरणा देती हैं.  मैथ्स में तेज कैलकुलेशन के लिए तरह-तरह के शार्टकट होते है और कैलकुलेशन स्पीड बढ़ाने के लिए विद्यार्थियों को शॉर्टकर्ट सीखने चाहिए. मैथ्स ओलंपियाड में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागी के भीतर मैथ में रुचि होना जरूरी है.

#cbsefortalent Pranjal,a student of National Public School-Koramangala, brought laurels to nation by winning gold medal at International Maths Olympiad-2019 in United Kingdom.IMO is perceived as the biggest and toughest of competitions across the world.@HRDMinistry @DrRPNishank pic.twitter.com/sPeaDwY9Ds

— CBSE HQ (@cbseindia29) October 13, 2019align="justify">

कौन कराता है ओलंपियाड

सरकारी और प्राइवेट इंस्टिट्यूट ओलिंपियाड का आयोजन करते हैं. नेशनल-इंटरनेशनल लेवल के ये एग्जाम क्लास 1 से 12वीं तक के स्टूडेंट्स के लिए होते हैं. साइंस, मैथ्स, कंप्यूटर, इंग्लिश ओलिंपियाड मुख्य हैं, हालांकि हिंदी, फ्रेंच, जनरल नॉलेज, हिस्ट्री आदि के भी ओलंपियाड होते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay