एडवांस्ड सर्च

UPSC: जहां एक साल पहले पहुंची बिजली, वहां के बाबर अली हुए सलेक्ट

जम्मू कश्मीर के रियासी जिले में माहोर तहसील के रहने वाले बाबर अली चगट्टा इस इलाके से सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने वाले पहले व्यक्ति हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मोहित पारीक]नई दिल्ली, 07 April 2019
UPSC: जहां एक साल पहले पहुंची बिजली, वहां के बाबर अली हुए सलेक्ट प्रतीकात्मक फोटो

संघ लोक सेवा आयोग की ओर से सिविल सेवा सर्विसेज परीक्षा के नतीजे जारी होने के बाद देश का ऐसे टैलेंट सामने आ रहा है, जिनकी कहानी प्रेरणा देने वाली है. इन्हीं सक्सेस स्टोरी में शामिल है जम्मू कश्मीर के रियासी जिले में सुदूरवर्ती माहोर तहसील के रहने वाले बाबर अली चगट्टा की कहानी. बाबर अली चगट्टा इस इलाके से सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने वाले पहले व्यक्ति हैं.

अपने चयन को लेकर बाबर का कहना है कि यह उपलब्धि आने वाले सालों में और युवाओं को प्रेरित करेगी. बता दें कि यूपीएससी की ओर से घोषित किए गए रिजल्ट में 364वीं रैंक हासिल करने वाले चगट्टा समेत राज्य के सात उम्मीदवारों ने  ने इस बार इस प्रतिष्ठित परीक्षा में सफलता हासिल की है.

चगट्टा ने कहा कि माहोर के युवाओं के भी सपने हैं और वे जीवन में आगे बढ़ना चाहते हैं लेकिन हालात ऐसे थे कि डेढ़ साल पहले ही उनके घरों में बिजली पहुंची थी. लोगों की सामाजिक-आर्थिक स्थिति तथा शैक्षणिक स्तर भी निम्न है.

पुंड जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास मेंधर के सलवा गांव की एमबीबीएस डिग्री प्राप्त रिहाना बशीर ने 187वां स्थान हासिल किया है. अभिषेग अगस्त्य ने 268, सनी गुप्ता ने 320, हरविंदर सिंह ने 335, गोकुल महाजन ने 564 और देवहुति ने 668वां स्थान हासिल किया है. ये सभी जम्मू जिले के रहने वाले हैं.

इस बार फाइनल रिजल्ट में 759 परीक्षार्थी परीक्षा पास करने में कामयाब हुए. इनमें जनरल कैटेगरी के 361, ओबीसी के 209, एससी के 128 और एसटी के 61 परीक्षार्थी शामिल हैं. इस बार शीर्ष 25 में 15 पुरुष परीक्षार्थी और 10 महिला  परीक्षार्थी का नाम शामिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay