एडवांस्ड सर्च

हर उम्र के लोगों पर हाइपरटेंशन का खतरा, आयुर्वेद में छिपा है रामबाण इलाज

इंसानों की दौड़ती-भागती जिंदगी की वजह से पैदा हुए तनाव के कारण आज हम वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे तक सेलिब्रेट करने लगे हैं. वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे हर साल 17 मई को दुनियाभर में मनाया जाता है. हाइपरटेंशन या हाई ब्लडप्रेशर एक बीमारी है जिसका कोई भी शिकार हो सकता है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: सुमित कुमार]नई दिल्ली, 17 May 2019
हर उम्र के लोगों पर हाइपरटेंशन का खतरा, आयुर्वेद में छिपा है रामबाण इलाज प्रतीकात्मक फोटो

इंसानों की दौड़ती-भागती जिंदगी की वजह से पैदा हुए तनाव के कारण आज हम वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे तक सेलिब्रेट करने लगे हैं. वर्ल्ड हाइपरटेंशन डे हर साल 17 मई को दुनियाभर में मनाया जाता है. हाइपरटेंशन या हाई ब्लडप्रेशर एक बीमारी है जिसका कोई भी शिकार हो सकता है. लेकिन यह सिर्फ मानसिक अवसाद या तनाव की वजह से नहीं बल्कि गलत आदतों की वजह से भी हो सकता है.

क्या आप जानते हैं कि गलत खान-पान, मोटापा और अव्यवस्थित जीवनशैली की वजह से भी हाइपरटेंशन होता है। दिल-दिमाग पर पड़ने वाला अत्यधिक बोझ भी हाइपरटेंशन के होने में अहम भूमिका निभाता है. इसलिए अक्सर डॉक्टर्स भी आपको तनाव न लेने की सलाह देते हैं.

तनावपूर्ण रहने की वजह से हाइपरटेंशन की बीमारी काफी आम हो गई है. पहले तो इसकी चपेट में सिर्फ व्यस्क आते थे, लेकिन अब कम उम्र के बच्चे भी इसके शिकार होने लगे हैं. आंकड़ों की मानें तो 60 साल के बाद करीब 50 प्रतिशत लोग इसकी चपेट में आ जाते हैं.

हाइपरटेंशन का खतरा बढ़ने से दिल का दौरा पड़ने की संभावना भी काफी बढ़ जाती है. इस बीमारी को साइलेंट किलर भी कहा जाता है. हाई बीपी की शुरुआत का मतलब है, कई दूसरी बीमारियों को न्योता देना. लंबे समय तक हाइपरटेंशन रहने की वजह से शरीर के दूसरे अंगों जैसे दिल, किडनी और आंखों पर बुरा असर पड़ता है.

आयुर्वेद दिलाएगा बीमारी से निजात

यदि आप चाहें तो अपने मन और दिमाग को शांत रखकर इस बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं. आइए जानते हैं कि आखिर कैसे आप आयुर्वेद के जरिए इस बीमारी से दूर रह सकते हैं.

मन की शांति

योग और अधत्यात्म के जरिए आप हाइपरटेंशन से होने वाली बीमारियों से खुद को सुरक्षित रख सकते हैं. इसके लिए आपको नियमित रूप से प्रतिदिन योग और अध्यात्म करना होगा. इस ट्रिक से आप अपने मन की समस्याओं को सुलझा सकते हैं. इसे आयुर्वेदिक साइकोथेरेपी भी कह सकते हैं. इसमें प्राणायाम, ध्यान, शवासन योग निद्रा, शशांकासन, पद्मासन, पवन मुक्तासन, कूर्मासन, मकरासन जैसे कई आसन हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी में बहुत उपयोगी होते हैं.

नियमित रूप से करें व्यायाम

व्यायाम के जरिए भी हाइपरटेंशन से होने वाली बीमारियों पर लगाम कसी जा सकती है. इसके जरिए आप रोजाना जिम या पार्क जाकर भी 

रेगुलर एक्सरसाइज कर सकते हैं. एक्सरसाइज किसी ट्रेनर की देख-रेख में की जाए तो ज्यादा बेहतर होगा. अक्सर गलत एक्सरसाइज करने की वजह दूसरी परेशानियों को दावत दे बैठते हैं.

खानपान में सुधार

हाइपरटेंशन से पीड़ियों रोगियों को अपने खान-पान का खास ख्याल रखना चाहिए. आपके खाने में हरी सब्जियां, फल और सलाद जैसी चीजों की मात्रा काफी ज्यादा होनी चाहिए. इसके अलावा बहुत ज्यादा मसालेदार और जंक फूड जैसी चीजों को जितना हो सके एवॉइड करना चाहिए.

खाने में जरूर शामिल करें ये चीजें

लहसुन की दो या तीन कलियों को सुबह खाली पेट पानी के साथ चबाकर खाना चाहिए। चबाने में दिक्कत हो तो लहसुन के रस की 5-6 बूंद 20 मिली पानी में मिलाकर ले सकते हैं। इसके अलावा मेथी और अजवाइन के पानी का प्रयोग भी किया जा सकता है। इसी तरह से त्रिफला के पानी का प्रयोग भी कर सकते हैं। 20 ग्राम त्रिफला को रात में पानी में भिगो दें और सुबह पानी को सुबह निथारकर दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से हाइपरटेंशन में फायदा मिलता है।

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay