एडवांस्ड सर्च

Advertisement

विदेश में पढ़ाई को लेकर क्या आपने भी पाल रखे हैं ये भ्रम...

आपका सपना है विदेश जाकर पढ़ाई करना, लेकिन फिर डरते हैं कि यह आपके बजट में नहीं है. इस सोच के साथ चलने वालों को जरूरत है कई ऐसे भ्रम दूर कर अपने सपनों को उड़ान देने की...
विदेश में पढ़ाई को लेकर क्या आपने भी पाल रखे हैं ये भ्रम... विदेश में पढ़ाई
aajtak.in [Edited By: आरती मिश्रा]नई दिल्ली, 17 August 2017

हममें से कई लोगों का सपना विदेश में पढ़ाई करने का होता है. लेकिन ज्यादातर लोग वहां पढ़ाई के महंगे खर्च आदि के बारे में सोचकर ही अपना फैसला बदल लेते हैं. अगर आपका भी सपना है विदेश जाकर पढ़ाई करना, तो अपने सपनों को उड़ान दें, न कि इसे बड़ी बात मानकर रास्ता ही बदल लें.

ज्यादातर लोगों को विदेश में पढ़ाई को लेकर होती हैं ये गलतफहमियां :

1. अक्सर लोगों को ऐसा लगता है विदेश की पढ़ाई हमारे बजट से बाहर की बात है. केवल अमीर लोग ही इसे अफोर्ड कर सकते हैं, जबकि ऐसा नहीं है. अगर आप विदेशी स्कॉलरशि‍प पा लेते हैं तो आपके लिए यह काफी आसान हो सकता है.

2. भारतीय स्टूडेंट्स में ज्यादातर लोगों को यह गलतफहमी है कि विदेशी डिग्री की भारत में उतनी वैल्यू नहीं हैं. जबकि ऐसा नहीं है. बता दें कि उन लोगों को नौकरी मिलने में ज्यादा आसानी होती है जो एक से ज्यादा भाषा के ज्ञानी होते हैं . साथ ही आपकी इंटरनेशनल क्वालिफिकेशन आपको औरों से ज्यादा आगे ले जाती है.

3. भारतीयों की सबसे बड़ी समस्या है अंग्रेजी बोलना. ज्यादातर स्टूडेंट्स सोचते हैं कि बिना इंग्लिश तो हमारा कोई चांस ही नहीं. जबकि ऐसा नहीं है ज्यादातर देशों में नॉन इंग्लिश स्पीकिंग लोगों के लिए अलग से स्पेशल क्लासेज चलाई जाती हैं. साथ ही अगर किसी कॉलेज की रिक्वायरमेंट किसी विशेष भाषा की है तो वहां स्टूडेंट्स के लिए उसकी अलग से क्लास चलाई जाती है.

4. कुछ लोगों को लगता है कि अब्रॉड की पढ़ाई के लिए ज्यादा स्कॉलरशि‍प उपलब्ध नहीं हैं, जबकि बता दें कि मेरिट में आने वाले और कमजोर आर्थिक वर्ग के स्टूडेंट्स के लिए ऐसे कई विकल्प मौजूद हैं. कई प्राइवेट और सरकारी ऑर्गनाइजेशन्स की ओर से आपको विदेश में पढ़ने का मौका मिल सकता है.

5. स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स को लगता है कि बाहर की पढ़ाई यानी सिर्फ मस्ती और घूमना. जबकि विदेशों में किसी कोर्स से जुड़ने के बाद पर्सनल से लेकर प्रोफेशनल स्तर तक आपका पूरा मेकओवर हो जाता है. बाहर जाकर आप अपनी जिम्मेदारियों से पहले से ज्यादा वाकिफ होते हैं.

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay