एडवांस्ड सर्च

इंडियन स्टूडेंट्स के लिए विदेश के टॉप 5 स्टडी डेस्टिनेशन

अगर आप भी विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन लेना चाहते हैं तो विदेश की इन टॉप 5 स्टडी डेस्टिनेशन्स को जरूर देख लें.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: ऋचा मिश्रा]नई दिल्ली, 03 October 2016
इंडियन स्टूडेंट्स के लिए विदेश के टॉप 5 स्टडी डेस्टिनेशन Students

भारतीय स्टूडेंट्स को बड़ी ही आसानी से अपनी काबिलियत और मेहनत के आधार पर विदेशों की यूनिवर्सिटी में एडमिशन मिल जाता है. यही वजह है कि बढ़ती संख्या में बाहर एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स के कारण भारत इंटरनेशनल एजुकेशन मार्केट का एक बड़ा सप्लायर बन गया है. अगर आप भी विदेश की यूनिवर्सिटीज में एडमिशन लेना चाहते हैं तो इन विदेश की इन टॉप 5 स्टडी डेस्टिनेशन्स को जरूर देख लें.

अमेरिका: एजुकेशन के हिसाब से यूएस में पढ़ाई के लिए कॉमर्स और आर्ट्स के स्टूडेंट्स ज्यादा जाते हैं. 2011-12 में करीब 764,500 इंटरनेशनल स्टूडेंट्स अमेरिका पढ़ने पहुंचे थे. एडमिशन के लिहाज से देखा जाए तो हॉवर्ड बिजनेस स्कूल, स्टैनफर्ड ग्रैजुएट स्कूल ऑफ बिजनेस का बस नाम ही काफी है. टाइम्स हायर एजुकेशन रैंकिग के में यूएस की हॉवर्ड यूनिवर्सिटी को पहला स्थान मिला है. पढ़ाई के लिए अहम यूनिवर्सिटीज की बात करें तो वाशिंगटन यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ मिसौरी सेंट लुइस और सेंट लुइस यूनिवर्सिटी बेहतर मानी जाती हैं.

ब्रिटेन: ब्रिटिश यूनिवर्सिटीज रिसर्च के लिए जानी जाती हैं. आंकडों की मानें तो ब्रिटेन में 2024 तक पीजी के विदेशी स्टूडेंट्स की तादाद 2,41,000 होगी. अकेले इंग्लैंड में करीब 100 यूनिवर्सिटीज हैं और इनमें 340000 इंटरनेशनल स्टूडेंट्स पढ़ाई करते हैं. ब्रिटेन में अब तक सबसे ज्यादा विदेशी पीजी स्टूडेंट्स चीन के बाद भारत के होते हैं. यहां के पीजी कोर्सेज की एक खास बात है कि इनकी अवधि कम होती है.  यहां के अंडर ग्रैजुएट कोर्सेज का दुनियाभर में नाम है, हायर स्टडी या रिसर्च के लिए ये आधार होते हैं.

जर्मनी: जर्मनी में करीब 900 से ज्यादा ग्रेजुएट और अंडर ग्रेजुएट के कोर्स ऑफर किए जाते हैं. इन कोर्स की एक खास बात ये हैं कि जर्मनी में पढ़ने के लिए वहां की भाषा जानना जरूरी नहीं रह गया है. कई प्रोग्राम इंग्लिश में ही पढ़ाए जाते हैं. यही वजह है कि 1995 में स्टूडेंट्स की संख्या 1,40,000 से बढ़कर 2013 के एकेडमिक वर्ष की शुरुआत में 2,80,000 हो गई थी. यहां रहने का खर्च और ट्यूशन फीस भी कम है. पोस्ट-डॉक्टरल की पढ़ाई के लिए जर्मनी से अच्छी कोई जगह नहीं है. जर्मन इंस्टीट्यूट्स अंतरराष्ट्रीय छात्रों को मेडिसिन, साइंस, ह्यूमेनिटीज या मैनेजमेंट में हर तरह के कोर्स मुहैया कराते हैं.

ऑस्ट्रेलिया: एजुकेशन की बात की जाए तो फिलहाल 4,00,000 भारतीय स्टूडेंट्स ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रहे हैं. दुनिया की 100 यूनिवर्सिटीज में ऑस्ट्रेलिया की कई यूनिवर्सिटी शामिल हैं. आपको बता दें कि अमेरिका और ब्रिटेन की तुलना में ऑस्ट्रेलिया में एडमिशन लेना आसान होता है. वोकेशनल कोर्सेज के साथ यहां कॉमर्स और आर्ट्स के कोर्सेज के लिए स्टूडेंट्स आते हैं. जहां तक बात करें कॉमर्स और आर्ट्स कोर्सेज की तो वो भी लीक से हटकर हैं. यहां की बेस्ट यूनिवर्सिटीज हैं, यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलियन नैशनल यूनिवर्सिटी, यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न, यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी.

रूस: रूस की यूनिवर्सिटीज में 2012 से सालाना 60 फीसदी  ज्यादा भारतीय स्टूडेंट्स पहुंच रहे हैं. 2012 में भारतीय स्टूडेंट्स की संख्या 280 थी, जो 2012 में 450 तक पहुंच गई. एम्बेसी के अनुसार इस समय रूस में विभिन्न इंस्टीट्यूट्स में करीब 5,000 स्टूडेंट्स पढ़ाई कर रहे हैं. हायर एजुकेशन के 600 से ज्यादा इंस्टीट्यूट करीब 500 अलग-अलग स्पेशल कोर्स कराते हैं. इसके अलावा इंजीनियरिंग, कम्यूनिकेशन और फॉरेसिंक साइंस जैसे कुछ अन्य कोर्सों में भारतीय स्टूडेंट्स की रूचि भी बढ़ रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay