एडवांस्ड सर्च

चीन में ई-शिक्षा है स्‍टूडेंट्स की पहली पसंद: सर्वे

टेक्‍नोलाॅजी के इस युग में चीन के अधिकतर युवा अब ई-शिक्षा की ओर बढ़ रहे हैं. एक नए सर्वेक्षण से सामने आया है कि चीन के लोग पढ़ने के लिए किताबों का नहीं, बल्कि मोबाइल फोन और मोबाइल एप का इस्तेमाल कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
IANS/ ऋचा मिश्रा बीजिंग, 21 April 2016
चीन में ई-शिक्षा है स्‍टूडेंट्स की पहली पसंद: सर्वे online education

टेक्‍नोलाॅजी के इस युग में चीन के अधिकतर युवा अब ई-शिक्षा की ओर बढ़ रहे हैं. एक नए सर्वेक्षण से सामने आया है कि चीन के लोग पढ़ने के लिए किताबों का नहीं, बल्कि मोबाइल फोन और मोबाइल एप का इस्तेमाल कर रहे हैं.

इस सर्वेक्षण में चीन के 29 प्रांतों के 45,911 वयस्कों को शामिल किया गया था, जो चाइनीज एकेडमी ऑफ प्रेस एंड पब्लिकेशन द्वारा किया गया था.

पढ़ने की आदतों पर हुए इस वार्षिक सर्वेक्षण के अनुसार, साल 2015 में 64 फीसदी युवाओं ने पढ़ने के लिए डिजिटल माध्यमों का उपयोग किया. यह संख्या पिछले साल से 5.9 प्रतिशत अधिक रही. वहीं 58.4 प्रतिशत लोगों ने किताबों का इस्तेमाल किया था, जो 0.4 प्रतिशत अधिक थी.

सर्वेक्षण के मुताबिक, साल 2015 में 60 प्रतिशत प्रतिभागियों ने बताया कि वे पढ़ने के लिए अपने मोबाइल फोन का उपयोग करते हैं. यह आंकड़ा पिछले साल से 8.2 प्रतिशत अधिक रहा. सामान्य तौर पर साल 2015 में पाठकों ने 3.26 प्रतिशत ई-बुक्स और 4.58 प्रतिशत किताबों का प्रयोग किया.

सर्वेक्षण के अनुसार, चीन के लोगों ने पढ़ने के लिए किताबों की जगह डिजिटल उपकरणों का अधिक प्रयोग किया. उन्होंने पढ़ने के लिए मोबाइल पर रोजाना 60 मिनट से अधिक समय बिताया. वहीं साल 2014 में यह संख्या 33 फीसदी था.

सर्वेक्षण के अनुसार, मोबाइल पर सामग्री पढ़ने वाले सभी पाठकों में 87 फीसदी पाठकों ने पढ़ने के लिए सोशल नेटवर्किंग साइट वीचैट का इस्तेमाल किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay