एडवांस्ड सर्च

बूंद हूं एक नन्ही सी

जोधपुर से प्रज्ञा साहनी ने बूंद पर लिखी एक कविता...

Advertisement
प्रज्ञा साहनीजोधपुर, 08 January 2015
बूंद हूं एक नन्ही सी Symbolic Image

बूंद हूं एक नन्ही सी
सहेज लो तो सागर बन जाऊं
नहीं तो माटी में समां जाऊं
वृक्षों के कपोलों में स्वर्ण आभा जैसी चमकूं
रवि के तेज से कहीं अपना अस्तित्व न खों दूं,
स्वाति नक्षत्र के दिन
सीप के आगोश में जाउं
मोती बनकर फिर में इतराऊं
बरसते बरसते पहुँच जाऊं
किसी व्यक्ति के मुख पर
तो आंसू जैसी दिखलाऊं,
सारी मिलकर जब हम बरसे
तो कर्ण प्रिय संगीत बन जाऊं,
शीत लहर में जाऊं में तो
स्वेत सी बर्फ बन जाऊं
बूंद हूं एक नन्ही सी,
जिसमे चाहो ढल जाऊं

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay