एडवांस्ड सर्च

बेटी बचाने का संदेश देने स्कूटी पर सवार होकर निकली एक बेटी

बेटी बचाओ अभि‍यान को जन-जन तक पहुंचाने के लिए भुवनेश्वर की ऋषि‍का ने एक बेहद अनूठा तरीका अपनाया है. उनकी यह पहल वाकई सराहनीय है.

Advertisement
aajtak.in
भूमिका राय वाराणसी , 01 December 2015
बेटी बचाने का संदेश देने स्कूटी पर सवार होकर निकली एक बेटी ऋषि‍का साहू

बेटी बचाओ अभियान के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए भारत भ्रमण पर अपनी स्कूटी से निकली एक महिला आज प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंची. स्कूटी वुमन के नाम से मशहूर ऋषिका साहू ने वाराणसी के सीएचएस गर्ल्स इंटर कॉलेज में लड़कियों को इस अभियान के महत्व के बारे में बताया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' के नारे के साथ देश की बेटियों को बचाने के लिए संकल्पबद्ध हैं. ऋषि‍का 14 सितंबर को भुवनेश्वर से अपनी स्कूटी पर सवार होकर भारत भ्रमण के लिए निकली हैं.

उनका एकमात्र उद्देश्य बेटी बचाने और कन्या भ्रूण हत्या रोकने के प्रति लोगों को जागरुक करना है. ऋषिका 26 राज्यों की पंद्रह हजार किलोमीटर की यात्रा पूरी करके वाराणसी पहुंचीं. उनका अंतिम पड़ाव दिल्ली है.

13 दिसंबर को दिल्ली पहुंचकर वह अपनी यात्रा समाप्त करेंगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay