एडवांस्ड सर्च

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव: 'प्रेम कैसा होता है'... रूपी कौर ने पढ़ी कविता

इनकी पहली किताब  'Milk and Honey' साल 2014 में छपी थी. यह किताब प्रोज़ और पोएट्री दोनों का संकलन थी. इसमें उम्दा रेखाचित्र भी बनाए गए थे. इसकी 25 लाख प्रतियां बिकी थीं.     

Advertisement
aajtak.in [Edited by: रोहित] 10 March 2018
इंडिया टुडे कॉन्क्लेव: 'प्रेम कैसा होता है'... रूपी कौर ने पढ़ी कविता रूपी कौर

'Love is knowing who to choose' ये एक लाइन है रूपी कौर की कविता 'What love looks like' (प्रेम कैसा होता है) की. रूपी का मानना है कि प्रेम कहीं बाहर नहीं बल्कि इंसान के अंदर ही होता है. अक्सर हम किसी से प्यार कर बैठते हैं और उसे ही अपना प्यार समझ बैठते हैं लेकिन ऐसा नहीं होता है.

इसके अलावा रूपी कौर ने कई और कविताएं इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में पढ़ीं. इंडियन-कनाडाई नागरिक रूपी कौर एक बेहद मशहूर कवियत्री, इलस्ट्रेटर (रेखा चित्रकार) और परफॉर्मर हैं. महिला सशक्तीकरण, प्रेम और रिश्तों की जटिलताओं पर लिखी गई इनकी कविताएं बहुत पसंद की जाती हैं.

पहली किताब से हुईं थी मशहूर

इनकी पहली किताब  'Milk and Honey' साल 2014 में छपी थी. यह किताब प्रोज़ और पोएट्री दोनों का संकलन थी. इसमें उम्दा रेखाचित्र भी बनाए गए थे. इसकी 25 लाख प्रतियां बिकी थीं.     

विवादों में थी रूपी

रूपी कौर ने साल 2015 में सोशल साइट इंस्टाग्राम पर अपने अकाउंट से एक तस्वीर शेयर की थी जिसमें वे माहवारी के रक्त के साथ बेड पर लेटी हुई थीं. उनकी यह पोस्ट सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफॉर्म्स पर भी वायरल हो गई थी. जिसके बाद इंस्टाग्राम ने इस तस्वीर को हटा दिया था. हालांकि बाद में इंस्टाग्राम ने तस्वीर को दोबारा पब्लिक कर दिया था.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay