एडवांस्ड सर्च

मदरसे ने बिंदी लगाने पर लड़की को निकाला, पिता की फेसबुक पोस्ट वायरल

केरल के एक मदरसे ने कथित तौर पर एक लड़की को बिंदी लगाने पर निष्कासित कर दिया है. लड़की के पिता ने एक फेसबुक पोस्ट लिखी है जो काफी वायरल हो रही है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: प्रज्ञा बाजपेयी]नई दिल्ली, 09 July 2018
मदरसे ने बिंदी लगाने पर लड़की को निकाला, पिता की फेसबुक पोस्ट वायरल वायरल हुई पिता की fb पोस्ट

केरल के एक मदरसे ने कथित तौर पर एक लड़की को बिंदी लगाने पर निष्कासित कर दिया है. लड़की के पिता ने एक फेसबुक पोस्ट लिखी है जो काफी वायरल हो रही है.

गुरुवार को एक फेसबुक पोस्ट में उमर मलायिल ने लिखा, "मेरी बेटी हना को एक शॉर्ट फिल्म में शूटिंग के दौरान चंदन पोट्टु (चंदन की बिंदी) लगाने की वजह से मदरसे से निकाल दिया गया."

उमर ने पोस्ट के साथ अपनी बेटी की तस्वीर भी शेयर की है. उन्होंने लिखा, "अपनी पढ़ाई के साथ-साथ उसने सिंगिंग, एक्टेम्पोर और ऐक्टिंग में भी अपना टैलेंट साबित किया है. वह स्कूल और मदरसे में हमेशा पहली रैंक लाती रही है. वह डिस्ट्रिक्ट और सब-डिस्ट्रिक्ट लेवल पर भी शानदार प्रदर्शन करती रही है. मदरसा की पब्लिक एग्जामिनेशन में भी उसने 5वीं रैंक हासिल की थी. इस एकैडेमिक साल  में एक मूवी में ऐक्टिंग के दौरान बिंदी लगाने की वजह से उसे एक्सपेल कर दिया गया है. क्या करें? वह लकी है कि उसे मौत की सजा नहीं दी गई."

थोड़ी ही देर में उमर की पोस्ट वायरल हो गई. इस पोस्ट पर काफी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.  कई लोगों ने उन्हें मदरसे के खिलाफ मजबूती से खड़े होने के लिए बधाई दी और सपोर्ट किया तो कुछ लोगों ने इसे इस्लाम की छवि बिगाड़ने के लिए उठाया गया कदम बताया.

इस विवाद पर उमर ने कोई भी प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है. फेसबुक पर नकारात्मक प्रतिक्रियाएं देने वालों को जवाब देते हुए सोमवार सुबह एक पोस्ट लिखी और कहा कि वह अब भी इस्लामिक मूल्यों में विश्वास करते हैं.

उन्होंने लिखा, "जो बहती गंगा में हाथ धोना चाह रहे हैं, उनसे अपील है कि वे जश्न ना मनाएं. ये वैश्विक मुद्दा नहीं है. ऐसी स्थिति का फायदा उठाकर किसी धर्म की छवि बिगाड़ने की कोशिश ना करें. यह बिल्कुल अलग और स्थानीय मुद्दा है. मैं अपने समुदाय का विरोध करने वाला शख्स नहीं हूं. मैं 100 फीसदी बिलीवर हूं. अपने धर्म को प्यार करने के साथ-साथ मैं दूसरे धर्मों का भी समर्थन और सम्मान करता हूं. मैं मानवता से प्यार करता हूं."

ट्रोल करने वालों को जवाब देते हुए उमर ने लिखा, "जिन लोगों ने मुझे अपशब्द कहे हैं,  क्या आपने मैसेंजर पर बात करने से पहले सच्चाई जानने की कोशिश की? आपको सच्चाई जाननेके बाद ही मुझ पर गालियों की बौछार और ट्रोल करने वाले वीडियो क्लिप्स पोस्ट करने चाहिए."

उमर ने पूछा, "मेरी ही बेटी को क्यों निकाला गया जबकि दूसरे स्कूलों में पढ़ रहीं बाकी लड़कियां अक्सर सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेते हुए बिंदी लगाती हैं. क्या यह सामान्य सी बात नहीं है कि बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ गाते हैं, ऐक्ट करते हैं? मेरा विरोध बस इसी बात को लेकर था."

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay