एडवांस्ड सर्च

सर्वेः हुनर और अनुभव समान, फिर भी सैलरी में पीछे रह जाती हैं लड़कियां!

सर्वे में पता चला कि ज्यादातर महिलाओं की सैलरी पुरुष सहकर्मियों से 19 फीसदी कम होती है. इस सर्वे में 60 फीसदी वर्किंग औरतों का मानना था कि उनके साथ वर्कप्लेस पर भेदभाव किया जाता है.

Advertisement
स्वप्निल सारस्वत [Edited by:मंजू ममगाईं]नई दिल्ली, 18 March 2019
सर्वेः हुनर और अनुभव समान, फिर भी सैलरी में पीछे रह जाती हैं लड़कियां! प्रतीकात्मक फोटो

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ. कितना शानदार नारा है. लेकिन काश जानदार भी होता. बेटी पढ़ती है, अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होती है, मर्द के साथ कंधे से कंधा मिलाकर नौकरी करती है, यहां तक सब अच्छा रहता है पर नौकरी के कुछ साल बाद उसे पता चलता है कि सिर्फ उसके जेंडर की वजह से उसे पुरूष सहकर्मी के मुकाबले कम सैलरी मिलती है. monster india के एक सर्वे में पता चला कि एक जैसी पढ़ाई और अनुभव के बावजूद वर्कप्लेस पर महिलाओं के साथ भेदभाव होता है.

सर्वे में पता चला कि ज्यादातर महिलाओं की सैलरी पुरुष सहकर्मियों से 19 फीसदी कम होती है. इस सर्वे में 60 फीसदी वर्किंग औरतों का मानना था कि उनके साथ वर्कप्लेस पर भेदभाव किया जाता है.

पुरुषों के मुकाबले महिलाओं का वेतन कितना कम?

इंडस्ट्री-वेतन में फर्क

आईटी- 26%

मैन्युफैक्चरिंग-    24%

हेल्थकेयर, सोशल वर्क-21%

फाइनेंशियल सर्विसेज, बैंकिंग- 2%

सर्वे में एक तिहाई महिलाओं ने कहा कि उन्हें टॉप मैनेजमेंट रोल के लिए बहुत मुश्किल से कंसीडर किया जाता है. 86 फीसदी महिलाओं का कहना था कि सेफ्टी फैक्टर नौकरी चुनते समय काफी मायने रखता है. सर्वे में आधी महिलाओं ने कहा कि वो नाइट शिफ्ट नहीं करना चाहतीं.

महिलाएं सबसे ज्यादा भेदभाव शादी के बाद दफ्तर में अनुभव करती हैं. 47 फीसदी महिलाओं ने कहा कि उनके बारे में मान लिया जाता है कि शादी हो गई मतलब अब वो काम के लेकर सीरियस नहीं हैं. 46 फीसदी ने कहा कि मैटरनिटी के बाद माना जाता है कि वो नौकरी छोड़ देंगी. इतना ही नहीं 47 फीसदी महिलाओं ने बताया कि उनके बारे में एक ये धारणा भी बना ली जाती है कि वो पुरुषों के बराबर घंटे ऑफिस में नहीं दे सकती हैं. सर्वे में एक तिहाई महिलाओं ने कहा कि टॉप मैनेजमेंट जेंडर इक्वेलिटी की बात तो करता है पर ये कार्यशैली में नहीं झलकता.

सर्वे में एक तिहाई महिलाओं ने माना कि मैटरनिटी बिल के बाद दफ्तरों में क्रेच सुविधा अनिवार्य किया जाना महिलाओं को वर्कफोर्स में डटे रहने में मदद करेगा. हालांकि सर्वे में आधी से ज्यादा महिलाओं ने कहा कि मैटरनिटी से लौटने के बाद दफ्तर ने उन्हें फ्लैक्सीबिल वर्क स्ट्रक्चर की सुविधा नहीं दी. तो अगर आप एक इंप्लोयर हैं और ये खबर पढ़ रहे हैं आप शायद समझ सकते हैं कि क्यों वर्कफोर्स से महिलाएं कम होती जाती हैं।

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay