एडवांस्ड सर्च

मां के दूध से तय होता है बच्चे का मानसिक स्वास्थ्य

मां का दूध बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरूरी है. एक शोध के अनुसार, प्रीमैच्योर बच्चों के लिए मां का दूध विशेष रूप से फायदेमंद होता है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: भूमिका राय]नई दिल्ली, 03 May 2016
मां के दूध से तय होता है बच्चे का मानसिक स्वास्थ्य बच्चे का मानसिक विकास

मां का दूध नवजात के लिए अमृत समान होता है और खासकर समयपूर्व जन्म लेने वाले बच्चों के लिए. मां का दूध बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत जरूरी है. एक शोध के अनुसार, प्रीमैच्योर बच्चों के लिए मां का दूध विशेष रूप से फायदेमंद होता है. इससे बच्चे का मानसिक स्वास्थ्य सीधे तौर पर प्रभावित होता है.

अमेरिका के सैंट लुइस यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में वरिष्ठ अनुसंधानकर्ता सिंथिया रोजर्स के अनुसार, तय समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों का मस्तिष्क आमतौर पर पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाता है.

शोध के दौरान एमआरआई स्कैन में पाया गया कि अधिक स्तनपान करने वाले बच्चों का ब्रेन वॉल्यूम अधिक बड़ा होता है. यह इसलिए अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि पहले हुए कई अध्ययनों में ब्रेन वॉल्यूम और सूझबूझ के बीच संबंध देखने को मिला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay