एडवांस्ड सर्च

ई-बुक से नहीं बच्चों को किताबों से पढ़ाएं, होते हैं कई फायदे

एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि जो पेरेंट्स अपने बच्चों को किताबों की जगह ई-बुक से पढ़ाते हैं, उनका ध्यान बच्चों की पढ़ाई से ज्यादा टेक्नोलॉजी पर रहता है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: सुधांशु माहेश्वरी]नई दिल्ली, 27 March 2019
ई-बुक से नहीं बच्चों को किताबों से पढ़ाएं, होते हैं कई फायदे प्रतीकात्मक तस्वीर

आजकल टेक्नोलॉजी के दौर में लोगों का काम तो आसन हो गया है, लेकिन रिश्तों में दूरियां आनी शुरू हो गई हैं. पहले जहां माता पिता अपने बच्चों के साथ समय बिताया करते थे, उनको कहानियां सुनाया करते थे, तो वहीं आज टेक्नोलॉजी के युग में इन सभी चीजों में तेजी से बदलाव आ रहा है. एक नई स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया है कि जो माता-पिता अपने बच्चों को किताबों की जगह ई-बुक से पढ़ाते हैं, उनका ध्यान बच्चों को पढ़ाने से ज्यादा टेक्नोलॉजी के बारे में चर्चा करने में रहता हैं.

ये स्टडी यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के शोधकर्ताओें ने की है. स्टडी के दौरान 37 पेरेंट्स के साथ उनके बच्चों को भी शामिल किया गया. बता दें, इस स्टडी में शोधकर्ताओं ने तीन पहलुओं पर विशेष ध्यान दिया- प्रिंट बुक, इलेक्ट्रॉनिक बुक और एडवांस इलेक्ट्रॉनिक बुक, जिसमें साउंड के साथ एनिमेशन भी था.

नतीजों में सामने आया कि जो माता-पिता बच्चों को ई-बुक के माध्यम से पढ़ाते हैं, उनका ध्यान बच्चों की पढ़ाई में कम और टेकनोलॉजी में ज्यादा होता है. यही कारण है कि बच्चे पढ़ाई में ज्यादा ध्यान नहीं लगा पाते हैं और पेरेंट्स भी उतने प्रभावशाली तरीके से उन्हें पढ़ाने में असफल रहते हैं.

स्टडी की शोधकर्ता डॉक्टर मुनजर कहती हैं, 'पेरेंट्स का बच्चों से बात करने और उन्हें पढ़ाने से बच्चों में लैंग्वेज स्किल्स विकसित होते हैं. साथ ही बच्चों की अपने पेरेंट्स के साथ बॉन्डिंग भी मजबूत होती है. डॉक्टर मुनजर ने इस बात पर भी जोर दिया कि किताबों से पढ़ते समय बच्चों को जो अनुभव मिलते हैं, उन्हें वो लंबे समय तक याद रहते हैं. इसके अलावा बच्चों का दिमाग भी बेहतर ढंग से विकसित हो पाता है, जिस कारण वो नई चीजें जल्दी और आसानी से सीख पाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay