एडवांस्ड सर्च

Advertisement

बच्चे को गोरा बनाने के लिए पत्थर से रगड़ती थी महिला

घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की है. जहां एक मां अपने बच्चे को गोरा बनाने के लिए उसकी त्वचा पत्थर से रगड़ती थी. महिला बच्चे की असली मां नहीं थी इसने बच्चे को उत्तराखंड से गोद लिया था.
बच्चे को गोरा बनाने के लिए पत्थर से रगड़ती थी महिला प्रतीकात्मक तस्वीर
aajtak.in [Edited by: रोहित] 03 April 2018

माना जाता है कि एशिया के ज्यादातर देशों के लोग गोरी त्वचा को सुंदरता का प्रतीक मानते हैं. ज्यादातर लोगों का मानना होता है कि गोरे रंग के लोग ही सुंदर होते हैं. गोरा रंग पाने के लिए लोग कभी फेयरनेस क्रीम का इस्तेमाल करते हैं तो कभी कोई और उपाय. गोरे रंग की चाहत में लोग अजीबो-गरीब काम करते हैं. ऐसी ही अजीब सी घटना सामने आई है.

घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की है. जहां एक मां अपने बच्चे को गोरा बनाने के लिए उसकी त्वचा पत्थर से रगड़ती थी. महिला बच्चे की असली मां नहीं थी इसने बच्चे को उत्तराखंड से गोद लिया था. लेकिन वह इसके रंग को लेकर खुश नहीं थी. महिला ने सारे जतन किए लेकिन बच्चे के रंग पर कोई असर नहीं पड़ा. इसी दौरान किसी ने महिला को बच्चे की त्वचा पत्थर से रगड़ने की सलाह दी. और महिला बच्चे की कोमल त्वचा रोज पत्थर से रगड़ने लगी.

महिला गोरा बनाने के लिए बच्चे की त्वचा इस निर्दयता से रगड़ती थी कि उसकी चीखें निकल जाती थीं. महिला की भतीजी से यह देखा ना गया और उसने पुलिस में शिकायत कर दी. जिसके बाद पुलिस ने बच्चे को महिला से बचाया.

एलोवेरा के होते हैं कई फायदे, लेकिन नुकसान भी कम नहीं

बच्चे पर इस जुल्म की जानकारी पुलिस को देने वाली शोभना शर्मा ने बताया कि सुधा तिवारी निशातपुरा इलाके में स्थित एक सरकारी विद्यालय में अध्यापिका हैं. इनके पति एक प्राइवेट कम्पनी में काम करते हैं. दोनों ने पिछले साल मातृछाया नाम के एक अनाथालय से इस बच्चे को गोद लिया था. गोद लेने के बाद अनाथालय से कोई भी बच्चे का हाल-चाल लेने नहीं आया था.

पार्टनर में दिखें ये 3 लक्षण तो शादी में ना करें देर

बच्चे को इलाज के लिए हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इसके बाद बच्चे को और पूछताछ के लिए चाइल्ड लाइन सेंटर भेज दिया गया. 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay