एडवांस्ड सर्च

शिशुओं के लिए वरदान 'मदर मिल्क बैंक', पूरे देश में भर रहा मासूमों का पेट

देश के विभिन्न राज्यों में मदर मिल्क बैंक खोले गए हैं, जो बच्चों के लिए मां के दूध को स्टोर करते हैं.

Advertisement
सुमित कुमारनई दिल्ली, 02 August 2019
शिशुओं के लिए वरदान 'मदर मिल्क बैंक', पूरे देश में भर रहा मासूमों का पेट हर साल मां का दूध न मिलने के कारण कई नवजात शिशुओं की मौत हो जाती है.

दुनियाभर में शिशुओं के स्वास्थ्य में सुधार और स्तनपान को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से हर साल 'ब्रेस्टफीडिंग वीक' मनाया जाता है. इसके बावजूद प्रतिवर्ष मां का दूध न मिलने के कारण कई नवजात शिशुओं की मौत हो जाती है. विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार जहां शिशु मृत्यु दर का वैश्विक औसत प्रति एक हजार पर 32 है, तो वहीं भारत में इसका औसत 38 है.

शिशु के जन्म से लेकर छह माह तक स्तनपान कराने से शिशु मृत्यु दर काफी हद तक कम की जा सकती है. इसकी पहल देश के कई हिस्सों में हो चुकी है. देश के विभिन्न राज्यों में मदर मिल्क बैंक खोले गए हैं, जो बच्चों के लिए मां के दूध को स्टोर करते हैं. इसके बाद जरूरतमंद बच्चों तक यह दूध पहुंचाया जाता है.

कैसे सुरक्षित रखा जाता है दूध?

सबसे पहले मदर मिल्क बैंक में दूध डोनेट करने वाली महिलाओं के स्वास्थ्य की पूरी जांच की जाती है. इस जांच में यह पता लगाया जाता है कि कहीं संबंधित महिला को कोई बीमारी तो नहीं है. इसके बाद दूध को माइनस 20 डिग्री पर रखा जाता है, जिससे यह दूध करीब छह माह तक खराब नहीं होता है.

कौन से राज्य हैं आगे?

साल 2018 में जारी आंकड़ों के मुताबिक राजस्थान में सबसे ज्यादा (13) मदर मिल्क बैंक बनाए गए हैं. इसके अलावा महाराष्ट्र में (12), तमिलनाडु में (10) मदर मिल्क बैंक हैं. इन राज्यों के बाद इस लिस्ट में चेन्नई का नाम आता है. अमारा नाम के ह्यूमन मिल्क बैंक ने ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन के साथ मिलकर दिल्ली-एनसीआर में इसकी सेवाएं शुरू की हैं.

शिशु के लिए क्यों जरूरी मां का दूध?

मां का दूध एक संपूर्ण आहार है जिसमें बच्‍चे की जरूरत के सभी पोषक तत्‍व उचित मात्रा में पाए जाते हैं. इन्हें शिशु आसानी से हजम कर लेता है. मां के दूध में मौजूद प्रोटीन और फैट गाय के दूध की तुलना में भी अधिक आसानी से पच जाते हैं. इससे शिशु के पेट में गैस, कब्ज, दस्त आदि की समस्‍या नहीं होती है और बच्‍चे की दूध उलटने की संभावना भी बहुत कम होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay