एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ज्यादा सैलरी चाहती हैं तो छोड़ दें ये 5 आदतें

आप कामकाजू हैं और अपनी सैलरी से संतुष्ट नहीं है तो हम आपको यहां बता रहे हैं कि किस तरह आप कुछ आदतों को छोड़कर ज्यादा सैलरी पा सकती हैं...
ज्यादा सैलरी चाहती हैं तो छोड़ दें ये 5 आदतें represtational photo for working women
aajtak.in[Edited by:सुरभि सिंह] नई दिल्ली, 10 May 2017

ये बात सच है कि सैलरी चाहे जितनी भी क्यों न मिले, हमेशा कम ही लगती है. लेकिन अगर आपको यह वाकई लगता है कि आपकी प्रोडक्ट‍िविटी कम होने के कारण आपकी सैलरी नहीं बढ़ पा रही है तो हम यहां आपको बता रहे हैं कि किस तरह आप अपनी कुछ आदतों से तौबा कर अपनी प्रोडक्ट‍िविटी बढ़ा सकती हैं और अच्छा सैलरी पैकेज पा सकती हैं...

झारखंड में अब एक रुपये में होगी महिला के नाम जमीन की रजिस्ट्री

इससे खत्म होती है ‘क्रीएटिविटी’

बुरी आदतों पर ‘सेल्फ कंट्रोल’ होना बहुत ज़रूरी है वरना वो आपकी ‘क्रीएटिविटी’ को खत्म कर देती हैं और साथ ही आपके परफॉर्मेंस को दबा देती हैं. मिनेसोटा की एक यूनिवर्सिटी में हुए एक शोध के दौरान ये पाया कि जिन लोगों में सेल्फ-कंट्रोल होता है वो उन लोगों के मुकाबले ज्यादा खुश रहते हैं जिनमें नहीं होता. इसलिए सेल्फ कंट्रोल बढ़ाएं और इन आदतों छोड़ दें...

छोड़ दीजिए ये 5 बुरी आदतें

क्‍या पैगम्‍बर मोहम्‍मद ने ट्रिपल तलाक के बारे में कुछ कहा था?

1. बेड पर फोन, टैबलेट या लैपटॉप इस्तेमाल करना

रात में सोते समय बेड पर फोन या लैपटॉप का इस्तेमाल करना आपके लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकता है. फोन या लैपटॉप से निकलने वाले ‘वेवलेंग्थ ब्लुलाईट’ नींद, मूड, और एनर्जी को काफी नुकसान पहुचाते हैं, जो आपकी उत्पादकता को सीधे-सीधे प्रभावित करती हैं.

2. हमेशा इंटरनेट सर्फिंग

किसी भी काम में एकाग्रता बनाने के लिए हमें लगभग 15 मिनट लगते हैं. लेकिन जब हम ये एकाग्रता बना लेते हैं तो हमारा दिमाग ‘फोकस’ करने कि क्षमता को हासिल कर लेता है. लेकिन लगातार ‘नेट-सर्फिंग’ हमारे इस एकाग्रता को अस्तव्यस्त करता है और दिमाग को अशांत कर देता है.

3. मुश्किल कामों को टालना

जब आप सुबह उठते हैं तो आपका दिमाग फ्रेश रहता है. उस वक्त आपको दिन का सबसे कठिन काम कर लेना चाहिए. क्योंकि सुबह आप एनर्जी से भरे होते हैं. अगर आप उस काम को शाम तक के लिए टालते रहेंगे तो आप उसे अच्छी तरह नहीं कर पाएंगे, क्योंकि तब तक आप थक चुके होंगे.

मिलिए, 434 बच्‍चों को बचाने वाली RPF की इस सब-इंस्‍पेक्‍टर से

4. अलार्म को ‘स्नूज’ न करें

जब आप रात में अलार्म लगा कर सोते हैं, तो कहीं न कहीं आपका दिमाग खुद को पहले से ही तैयार लेता है कि आपको सुबह कितने बजे उठना है. इसलिए आप कभी-कभी अलार्म बजने के ठीक पहले उठ जाते हैं. लेकिन जब आप ‘स्नूज’ बटन दबा के दोबारा सो जाते हैं और देर से थके और मदहोश से उठते हैं, तब तक आपके दिमाग की सजगता खो जाती है.

5. ‘मल्टीटास्किंग’ होना हानिकारक

‘मल्टीटास्किंग’ होना आपकी प्रोडक्टिविटी को पूरी तरह से खत्म कर देता है. स्टैंनफोर्ड यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन के मुताबिक जो लोग ‘मल्टीटास्किंग’ होते हैं वो कम ‘प्रोडक्टिव’ होते हैं. एक समय पर एक ही काम करने वाले लोग ज्यादा प्रोडक्ट‍िव होते हैं. इसलिए एक समय में एक ही काम करें. काम का बोझ ज्यादा हो या कम, एक-एक कर पूरा करें.

जाहिर है आप प्रोडक्ट‍िव होंगे तो आपकी सैलरी पर भी इसका असर दिखना शुरू हो जाएगा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay