एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मीठे के शौकीनों को लगा चॉकलेट का चस्का..

भारत में पारंपरिक मिठाइयों का स्वाद लोगों की जुबान पर जो एक बार चढ़ता था तो सालों-साल तक उतरता नहीं था पर अब धीरे-धीरे इस जायके को चॉकलेट का टेस्ट फीका कर रहा है...
मीठे के शौकीनों को लगा चॉकलेट का चस्का..
aajtak.in [Edited by: दीपल सिंह]नई दिल्ली, 16 July 2016

मीठे के बाजार में देसी मिठाइयों का एकछत्र राज बरकार है, लेकिन बदलते दौर में चॉकलेट और बिस्कुट की बिक्री में भी इजाफा देखने को मिल रहा है. भारत में मिठाई और उससे जुड़े उद्योगों का लगभग 40,000-45,000 करोड़ का बाजार है.

- ब्रांडेड बाजार की 21-23% तक की कुल हिस्सेदारी है.
- बाजार में नॉन ब्रांडेड की 77-79% तक की हिस्सेदारी है.
मीठा खाने की बारी आती है तो आज भी देश में देसी मिठाई खाने के शौकीन ज्यादा मिलेंगे. 2014-15 में यूरोमीटर इंटरनेशनल के आंकड़ों के मुताबिक चॉकलेट, बिस्कुट, कन्फेक्शनरी खाने वाले 30% हैं. वहीं 70% पारंपरिक मिठाई पसंद करने वाले लोग हैं.

मिठाइयों के ब्रांड्स की मार्केट में हिस्सेदारी:



भारत में लोग देसी मिठाइयां बेहद पसंद करते है. अब धीरे-धीरे चॉकलेट और कुकीज भी लोगों के बीच जगह बना रहे हैं. 2014 में फूड पांडा के 7 शहरों में हुए सर्वे के अनुसार जानें मिठाइयों में क्या है लोगों का फेवरिट टेस्ट...


देसी मिठाइयों की जगह ले रहा है चॉकलेट का स्वाद:
20-25% दुकानदारों ने माना है कि पिछले 4 सालों में देसी मिठाइयों की मांग में कमी आई है और चॉकलेट की डिमांड बढ़ी है...


हमारे देश में किसी भी खुशी के मौके पर या त्योहारों में लोग एक-दूसरे का मुंह मीठा कराकर अपनी खुशी जाहिर करते हैं, लेकिन बदलती सदी के साथ ही लोगों की पसंद और टेस्ट भी बदला है. इसलिए अब लोग फेस्टिवल्स या किसी सेलिब्रेशन में देसी मिठाई की जगह चॉकलेट्स गिफ्ट करते हैं...


चॉकलेट्स के साथ-साथ लोगों में कुकीज और बिस्कुट गिफ्ट करने की च्वाइस भी बढ़ी है...


मिठाइयों की ओर भारतीयों का झुकाव प्रोडक्शन के लिहाज से अच्छा है पर जिन्हें डायबिटीज है उनके लिए ये जहर से कम नहीं हैं. दुनिया में भारत को डायबिटीज कैपिटल कहा जाता है. इसके बावजूद देश में कम शुगर वाले प्रोडक्ट्स की बिक्री कम है.

सौजन्य: Newsflickes

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay