एडवांस्ड सर्च

सिरसा पर इनेलो का कब्जा, इस बार बीजेपी कमल खिलाने की जुगत में

सिरसा इलाके को चौटाला परिवार का राजनीतिक दुर्ग माना जाता है. यही वजह है कि सिरसा की पांच विधानसभा सीटों में से चार पर इनेलो और एक सीट पर अकाली दल का कब्जा है. इनेलो के इस मजबूत इलाके में सेंध लगाने के लिए बीजेपी और कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है.

Advertisement
aajtak.in
कुबूल अहमद नई दिल्ली, 10 October 2019
सिरसा पर इनेलो का कब्जा, इस बार बीजेपी कमल खिलाने की जुगत में सिरसा रेलवे स्टेशन

  • सिरसा 'चौटाला परिवार' का मजबूत किला
  • सिरसा जिले में पांच विधानसभा सीट हैं

हरियाणा के पश्चिम छोर पर बसा सिरसा जिला पंजाब और राजस्थान की सीमाओं से सटा हुआ है. सिरसा इलाके को 'चौटाला परिवार' का राजनीतिक दुर्ग माना जाता है. यही वजह है कि सिरसा की पांच विधानसभा सीटों में से चार पर इनेलो और एक सीट पर अकाली दल का कब्जा है. इनेलो के इस मजबूत इलाके में सेंध लगाने के लिए बीजेपी और कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है.

सिरसा

हरियाणा की सिरसा विधानसभा क्षेत्र काफी महत्वपूर्ण माना जाता है. 2014 विधानसभा चुनाव में सिरसा सीट से इनेलो के माखन लाल सिंगला ने 46573 वोट हासिल करके जीत दर्ज की थी. जबकि दूसरे नंबर पर रहे इचएएलपी के गोपाल कांडा को 43635 वोट मिले थे और तीसरे नंबर पर बीजेपी की सुनीता सेतिया थीं. इस बार के चुनाव में बीजेपी ने प्रदीप रातुसरिया को उतारा है.

ऐलनाबाद

सिरसा जिले की ऐलनाबाद विधानसभा सीट इनेलो की परंपरागत सीट मानी जाती है. 2014 विधानसभा चुनाव में ऐलनाबाद सीट से इनेलो के अभय सिंह चौटाला ने 69162 वोट हासिल कर जीत दर्ज की थी. जबकि नंबर पर रहे बीजेपी के पवन बेनीवाल को 57,623 वोट मिले और तीसरे नंबर पर कांग्रेस के रमेश थे. इस बार के चुनाव में अभय चौटाला एक बार फिर से ऐलनाबाद सीट से अपना दुर्ग बचाने उतरे हैं. जबकि बीजेपी ने पवन बेनीवाल पर एक फिर भरोसा जताया है.

कालांली सीट

सिरसा जिले की कालांली विधानसभा अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है. 2014 विधानसभा चुनाव में कालांली सीट से अकाली दल के बलकौर सिंह ने 54112 वोट हासिल विधायक चुने गए थे. जबकि दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस के शशिपाल को 41,147 वोट मिले और तीसरे नंबर पर बीजेपी के राजेन्द्र सिंह रहे थे. बलकौर सिंह बीजेपी का दामन थामकर इस बार कालांली सीट से मैदान में उतरे हैं.

डबवाली सीट

सिरसा जिले की डबवाली विधानसभा सीट चौटाला परिवार की परंपरागत सीटों में गिनी जाती है. 2014 के विधानसभा चुनाव में डबवाली सीट से इनेलो के नैना चौटाला ने 68029 वोट हासिल करके जीत दर्ज की थी. जबकि, दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस के कमलवीर सिंह को 59484 वोट और तीसरे नंबर पर बीजेपी के देव कुमार शर्मा रहे थे. इस बार के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने डबवाली विधानसभा सीट से पूर्व उप प्रधानमंत्री देवीलाल के पौते आदित्य चौटाला को टिकट देकर इनेलो और जेजेपी दोनों पार्टियों की चिंता बढ़ा दी है. जेजेपी नेता नैना चौटाला बवाली सीट के बजाय बाढ़डा क्षेत्र से किस्मत आजमा रही हैं.

रानिया सीट

सिरसा जिले की रानिया विधानसभा सीट पर इनेलो का कब्जा है. 2014 विधानसभा चुनाव में रानिया सीट से इनेलो के राम चंद कम्बोज ने 43,971 वोट हासिल कर विधायक चुने गए थे. जबकि, दूसरे नंबर पर एचएएलपी के गोबिंद कांडा थे, जिन्हें 39,656 वोट मिले थे और तीसरे नंबर पर INC के रणजीत सिंह थे. रामचंद्र कंबोज इस बार इनेलो का साथ छोड़कर बीजेपी से चुनावी मैदान में उतरे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay