एडवांस्ड सर्च

इन 5 चीजों के लिए दुनियाभर में मशहूर है कश्मीर

धरती पर स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर को देखने के लिए दुनियाभर से लोग हर साल यहां पहुंचते हैं. लेकिन कश्मीर की खूबसूरत वादियों और नजारों के अलावा यहां 5 ऐसी और भी चीजें हैं जो इसे वाकई खूबसूरत बनाती हैं. आइए जानते हैं आखिर क्या हैं वो 5 खास कश्मीरी चीजें जिन्हें पाने की तमन्ना मीलों दूर बैठे लोग भी करते हैं. 

Advertisement
aajtak.inनई दिल्ली, 06 August 2019
इन 5 चीजों के लिए दुनियाभर में मशहूर है कश्मीर प्रतीकात्मक फोटो (Pixabay Image)

एलओसी पर बढ़ते तनाव को देखते हुए नरेंद्र मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर और अनुच्छेद 370 को लेकर एक ऐतिहासिक फैसला कर दिया. मोदी सरकार ने अपने इस नए फैसले में जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाने का फैसला किया है. इसके अलावा लद्दाख को भी जम्मू-कश्मीर से अलग कर दिया गया.

धरती पर स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर को देखने के लिए दुनियाभर से लोग हर साल यहां पहुंचते हैं. लेकिन कश्मीर की खूबसूरत वादियों और नजारों के अलावा यहां 5 ऐसी और भी चीजें हैं जो इसे वाकई खूबसूरत बनाती हैं. आइए जानते हैं आखिर क्या हैं वो 5 खास चीजें जिन्हें पाने की तमन्ना मीलों दूर बैठे लोग भी करते हैं.   

पश्मीना शाल-

कश्मीरी पश्मीना शाल व्यक्ति के लिए रॉयल्टी की निशानी होती है. असली पशमीना शाल छूने पर बेहद मुलायम और वजन में हल्की लगती है. पश्मीना असल में कश्मीर के लद्दाख के चंगथांग में पाई जाने वाली चांगरा बकरियों के ऊन से ही बनती है, जो समुद्र तल से करीब 14,000 फुट की ऊंचाई पर पाई जाती हैं.

एक बड़ी पश्मीना शाल को बनाने के लिए 3 बकरों से निकाली गई ऊन का इस्तेमाल किया जाता है. एक बकरे से लगभग 80 से 170 ग्राम तक ऊन प्राप्त होती है. आराम और सुंदरता का प्रतीक, पश्मीना हमेशा से दुनिया भर में महिलाओं की पहली पसंद रहा है.

कश्मीरी संगीत-

जम्मू-कश्मीर में संगीत को सूफियाना कलाम कहा जाता है. इस्लाम के आगमन के बाद, कश्मीरी संगीत ईरानी संगीत से प्रभावित हो गया. कहा जाता है कि कश्मीर में इस्तेमाल होने वाले संगीत वाद्ययंत्र का आविष्कार ईरान में हुआ था. रबाब कश्मीर का लोकप्रिय लोक संगीत है. जबकि रूफ एक पारंपरिक नृत्य है जो कश्मीर क्षेत्र की महिलाओं द्वारा किया जाता है.

जम्मू और कश्मीर के कला और शिल्प-

जम्मू कश्मीर के कला और शिल्प बहुत उत्तम दर्जे के माने जाते हैं. यहां के बुने हुए कालीन, रेशम के कालीन, गलीचे, ऊनी शॉल, मिट्टी के बर्तन और कुर्तों को बेहद खूबसूरती के साथ उकेरा जाता है.

शिकारा-

यहां बेहद खूबसूरती के साथ लकड़ी की नाव को सजाया जाता है. जिसे पारंपरिक भाषा में `शिकारा` कहा जाता है. पर्यटक दूर-दूर से इस शिकारे में बैठने के लिेए यहां आते हैं.

जम्मू और कश्मीर के व्यंजन-

रोगन जोश,योगर्ट लैंब करी,कश्मीरी पुलाव कश्मीर की खास डिशेज में से एक हैं. रोगन जोश को मीट के साथ भुने हुए प्याज, मसाले और दही डालकर पकाया जाता है. रोगन जोश में कश्मीरी मिर्च पड़ने की वजह से इसका रंग दिखने में लाल होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay