एडवांस्ड सर्च

भारतीय महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर का खतरा अधिक: रिपोर्ट

कैंसर की बीमारी दुनियाभर के लोगों को तेजी से अपना शिकार बना रही है. भारत की करीब 50 फीसदी महिलाएं सर्वाइकल कैंसर से पीड़ित हैं. आइए जानते हैं इसका क्या कारण है और इसके खतरे को कैसे कम किया जा सकता है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: नेहा]नई दिल्ली, 05 February 2019
भारतीय महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर का खतरा अधिक: रिपोर्ट प्रतीकात्मक फोटो

दुनियाभर में कैंसर के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. कैंसर की जानलेवा बीमारी तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रही है. कैंसर 100 से भी अधिक प्रकार के होते हैं. इनमे सबसे आम फेफड़ों, मुंह, ब्रेस्ट, प्रोस्टेट और सर्वाइकल कैंसर है. रिपोर्ट के मुताबिक, मध्य वर्ग की 50 फीसदी भारतीय महिलाओं में ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) होने का खतरा सबसे अधिक होता है. सर्वाइकल कैंसर से पीड़ित ज्यादातर महिलाओं में इस वायरस का इन्फेक्शन पाया गया है.

बता दें, ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) कई वायरस का समूह होता है, जो गर्भाशय ग्रीवा को संक्रमित करता है. ह्यूमन पेपिलोमावायरस 100 से भी ज्यादा प्रकार के होते हैं. ये वायरस शारीरिक संबंध बनाने से एक से दूसरे व्यक्ति में फैलता है.

इनमें से 2 प्रकार के ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) से सर्वाइकल कैंसर होने का खतरा 70 फीसदी ज्यादा होता है. ह्यूमन पेपिलोमावायरस (HPV) टेस्ट रिपोर्ट की जांच में सामने आया कि साल 2014 और 2018 में 31 से 45 वर्ष की लगभग 4,500 महिलाओं में 47 फीसदी महिलाओं में ह्यूमन पेपिलोमावायरस से पीड़ित थीं. जबकि, 16 से 30 वर्ष की 30 फीसदी महिलाओं में ये कैंसर देखा गया.  

दुनियाभर में कैंसर के कारण होने वाली मौतों में सर्वाइकल कैंसर एक बड़ा कारण है. जबकि यह भारतीय महिलाओं की मौत का दूसरा सबसा बड़ा कारण है. हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक, सर्वाइकल कैंसर का अगर शुरुआती समय में ही इलाज किया जाए तो इसके खतरे को कम करके इसके कारण होने वाली मौतों को भी कम किया जा सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay