एडवांस्ड सर्च

Air Pollution Cancer: वायु प्रदूषण से बढ़ रहा है कैंसर का खतरा, ऐसे बचें

lung cancer air pollution देश के कई राज्यों में लगातार बढ़ रहे वायु प्रदूषण का लोगों की सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है. वायु प्रदूषण लोगों को तेजी से कैंसर की गिरफ्त में ले रहा है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: नेहा]नई दिल्ली, 23 December 2018
Air Pollution Cancer: वायु प्रदूषण से बढ़ रहा है कैंसर का खतरा, ऐसे बचें Lung Cancer (प्रतीकात्मक फोटो)

वायु प्रदूषण के कारण फेफड़े में कैंसर का खतरा बना रहता है. चिकित्सकों का कहना है कि धूम्रपान फेफड़े के कैंसर की मुख्य वजह मानी जाती थी, लेकिन हाल के दिनों में यह बात भी सामने आई है कि फेफड़े के कैंसर के बढ़ते मामलों में प्रदूषित हवा की भूमिका भी बढ़ रही है. चिकित्सकों के मुताबिक, कैंसर धूम्रपान नहीं करने वाले लोगों को भी हो रहा है.

पटना के चिकित्सकों की टीम ने मार्च, 2012 से जून, 2018 तक 150 से ज्यादा मरीजों का विश्लेषण किया, जिसमें पाया गया कि बिना धूम्रपान करने वाले व्यक्ति भी कैंसर के शिकार बन रहे हैं. पटना के जाने-माने कैंसर सर्जन डॉ. वी़ पी़ सिंह ने सर्वेक्षण के आधार पर बताया कि इन मरीजों में तकरीबन 20 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जो धूम्रपान नहीं करते थे. 50 वर्ष से कम उम्र समूह में यह आंकड़ा तो 30 प्रतिशत तक पहुंचा. ये लोग धूम्रपान नहीं करते थे.

उन्होंने बताया कि फेफड़ों से जुड़े कैंसर का सबसे बड़ा कारण धूम्रपान होता है. धूम्रपान से होने वाले इस आम कैंसर के बारे में तमाम जागरूकता अभियान चलाए जाते हैं, इसके बावजूद वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन (डब्लूएचओ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 76 लाख से ज्यादा लोग हर साल इस बीमारी का शिकार होते हैं.

डॉ. सिंह ने कहा कि फेफड़े के कैंसर से धूम्रपान करने वाले ही नहीं, बल्कि धूम्रपान न करने वाले युवक-युवतियां भी जूझ रहे हैं और ऐसा बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण हो रहा है. उन्होंने कहा कि फेफड़े का कैंसर खतरनाक बीमारी है और इसके निदान के बाद भी पांच साल तक जीवित रहने की उम्मीद कम ही होती है.

ऐसे पहचानें फेफड़े का कैंसर

फेफड़े के कैंसर को आसानी से पहचाना जा सकता है. छाती में दर्द, छोटी सांसें लेना और हमेशा कफ रहना, चेहरे और गर्दन पर सूजन, थकान, सिरदर्द, हड्डियों में दर्द और वजन कम होना इस बीमारी के मुख्य लक्षण हैं.

कैंसर से बचने के उपाय

- कैंसर से सुरक्षित रहने के लिए व्यक्ति को 'पैसिव स्मोकिंग' (सिगरेट के धुएं) से बचना चाहिए.

- प्रतिदिन व्यायाम करना चाहिए.

- फल और सब्जियां ज्यादा खाएं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay