एडवांस्ड सर्च

भारत की 27 फीसदी महिलाएं इस बीमारी से पीड़ित, ऐसे कराएं इलाज

स्तन कैंसर से पीड़ित 70 फीसदी महिलाओं को कीमोथेरेपी की जरूरत नहीं होती है, जानें क्यों...

Advertisement
aajtak.in [Edited by: नेहा फरहीन]नई दिल्ली, 03 August 2018
भारत की 27 फीसदी महिलाएं इस बीमारी से पीड़ित, ऐसे कराएं इलाज प्रतीकात्मक फोटो

एक स्टडी की रिपोर्ट में सामने आया है कि भारत की 27 फीसदी महिलाएं कैंसर से पीड़ित हैं, जिसमें स्तन कैंसर सबसे आम है. कैंसर से पीड़ित इन रोगियों में से लगभग 70 प्रतिशत महिलाओं को कीमोथेरेपी से कोई लाभ नहीं पहुंचा है. जिन 30 फीसदी महिलाओं को कीमोथेरेपी का लाभ मिला, उनके लिए यह जीवनरक्षक साबित हुआ है.

इस स्टडी को ट्रायल एसाइनिंग इंडविजुअलाइज्ड ऑप्शंस फॉर ट्रीटमेंट (टेलरक्स) द्वारा किया गया है, जिसमें महिलाओं में स्तन कैंसर सबसे आम कैंसर पाया गया है. इस स्टडी में दुनिया भर के छह देशों से स्तन कैंसर से पीड़ित लगभग 10,273 महिलाओं को शामिल किया गया है.

मेडिलिंक्स इंक के सीईओ प्रसाद वैद्य ने इस बारे में कहा, कि टेलरक्स के निष्कर्ष हजारों महिलाओं को टॉक्सिक कीमोथेरेपी उपचार से मुक्त कर सकता है, जो वास्तव में उन्हें लाभ नहीं पहुंचाता है.

हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि, यह स्टडी भविष्य में कैंसर के इलाज के तरीके को बदल देगी. सटीक दवा उपचार के युग में मरीजों के जोखिम के अनुसार व्यक्तिगत किया जाता है. ऑन्कोटाइप डीएक्स जैसे टेस्ट ऑन्कोलॉजी के प्रैक्टिस के भविष्य को बदल देंगे. सरकार और बीमा एजेंसियों को टेस्ट के खर्चो की प्रतिपूर्ति की अनुमति देनी चाहिए क्योंकि यह बड़ी संख्या में मरीजों को कीमोथेरेपी और साइड इफेक्ट्स से बचाकर पैसे बचाने में मदद करता है.

दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट सर्जीकल ऑन्कोलोजी डॉ. रमेश सरीन ने कहा, यह एक बेहद अच्छी तरह से आयोजित स्टडी और साथ ही प्रासंगिक भी है. अपने बालों को खोने का विचार, बहुत अस्वस्थ नहीं होने और अन्य प्रमुख साइड इफेक्ट्स से परहेज करने का विचार निश्चित रूप से इसके टेस्ट को उपयोगी बनाता है. सिर्फ एक स्कोर की मदद से, टेस्ट यह पुष्टि कर सकता है कि आपको कीमोथेरेपी की आवश्यकता है या नहीं.

उन्होंने कहा कि 50 से 60 प्रतिशत महिलाओं को कीमोथेरेपी की आवश्यकता नहीं है और उन्हें हार्मोनल थेरेपी के साथ ठीक किया जा सकता है जो कि एक टैबलेट है.

बता दें, देश में स्तन कैंसर के मामलों में 0.46 से 2.56 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर्ज की गई है. दुनिया भर में डायग्नोस किए गए स्तन कैंसर रोगियों में से अधिकांश में हार्मोन-पॉजिटिव, एचईआर 2-निगेटिव, नोड-निगेटिव कैंसर पाया गया है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay