एडवांस्ड सर्च

इन दो चीजों के सेवन से दूर होगा अल्जाइमर का खतरा: स्टडी का दावा

एक नई स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया है कि ग्रीन टी और गाजर के अधिक सेवन से अल्जाइमर बीमारी का खतरा कम होता है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: नेहा]नई दिल्ली, 18 March 2019
इन दो चीजों के सेवन से दूर होगा अल्जाइमर का खतरा: स्टडी का दावा प्रतीकात्मक फोटो

अल्जाइमर एक एक मानसिक रोग है, जिसके कारण मरीज की याददाश्त कमजोर हो जाती है और उसका असर दिमाग के कार्यों पर पड़ता है. यह डिमेंशिया का सबसे आम प्रकार है. इससे व्यक्ति की याददाश्त, सोचने की क्षमता, रोजमर्रा की गतिविधियों पर बुरा असर पड़ता है. लेकिन एक नई स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया है कि ग्रीन टी और गाजर के सेवन से अल्जाइमर के खतरे को कम किया जा सकता है.

यह स्टडी यूनिवर्सिटी ऑफ़ साउथर्न कैलिफ़ोर्निया के शोधकर्ताओं द्वारा की गई है. सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक, आने वाले समय में अल्जाइमर बीमारी ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले सकती है. अल्जाइमर बीमारी से जूझ रहे लोगों के व्यक्तित्व, काम करने, सोचने, चीजों को याद रखने की क्षमता प्रभावित होती है.

जर्नल ऑफ बायोलॉजिकल केमिस्ट्री में प्रकाशित स्टडी में शोधकर्ताओं की टीम ने 2 कंपाउंड की जांच की है. पहला ईजीसीजी (EGCG) और दूसरा फेरुलिक एसिड (FA).

ईजीसीजी (EGCG) एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट है, जो ग्रीन टी में भरपूर मात्रा में पाया जाता है. ये कंपाउंड शरीर में फ्री रेडिकल्स को बनने से रोकता है, जिस कारण शरीर की कोशिकाएं और मॉलिक्यूल डैमेज होने से बच जाते हैं.

वहीं, पिछली कुछ स्टडी में बताया गया है कि ईजीसीजी (EGCG) कंपाउंड नए न्यूरॉन्स को सुरक्षित रखने में मदद करता है, जिससे याददाश्त कमजोर नहीं होती है.

दूसरा कंपाउंड,  फेरुलिक एसिड (FA) है. ये कंपाउंड  गाजर, ओट्स और टमाटर में पाया जाता है. फेरुलिक एसिड भी एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट है. ये एंटीऑक्सीडेंट सन बर्न, झुर्रियों समेत स्किन संबंधित कई समस्याओं को दूर करने में मदद करता है.

यह स्टडी चूहों पर की गई है. स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने अल्जाइमर से पीड़ित चूहों को 4 ग्रुप में बांटा. चारों ग्रुप में अल्जाइमर से पीड़ित चूहों के साथ हेल्दी चूहे भी शामिल किए. इन सभी चूहों को चार अलग तरह की डाइट दी गई. जो इस प्रकार हैं- एक ग्रुप को ईजीसीजी (EGCG) और फेरुलिक एसिड (FA), दूसरे ग्रुप को सिर्फ ईजीसीजी (EGCG), तीसरे ग्रुप को सिर्फ फेरुलिक एसिड (FA) और चौथे ग्रुप को प्लेसबो दिया गया.

इसके बाद सभी चूहों की जांच की गई. नतीजों में सामने आया जिन चूहों को ईजीसीजी (EGCG) और फेरुलिक एसिड (FA) डाइट दी गई, उन्होंने 3 महीनों के अंदर हेल्दी चूहों की तरह ही परफॉर्म किया.

स्टडी के मुख्य लेखक डॉ. टेरेंस टाउन ने बताया कि स्टडी आधार पर कहा जा सकता है कि ईजीसीजी (EGCG) और फेरुलिक एसिड (FA) दिमाग में एमाइलॉयड बीटा प्रोटीन को पहुंचने से रोकते हैं, जो याददाश्त कमजोर होने के लिए जिम्मेदार होते हैं. साथ ही ये एंटीऑक्सीडेंट्स दिमाग के तनाव को कम करने में भी अहम भूमिका निभाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay