एडवांस्ड सर्च

हरीश रावत पर गिरफ्तारी की तलवार, खुद को बताया कांग्रेस की 'बालिका वधू'

सीबीआई द्वारा पी चिदंबरम और डी शिवकुमार के बाद उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर गिरफ्तारी के संकट मंडरा रहे हैं. ऐसे में हरीश रावत ने कहा कि हम कांग्रेस की बालिका वधू हैं और अगर मेरे जेल जाने से कांग्रेस का फायदा होता है तो हम तैयार हैं.

Advertisement
aajtak.in
दिलीप सिंह राठौड़ देहरादून, 04 September 2019
हरीश रावत पर गिरफ्तारी की तलवार, खुद को बताया कांग्रेस की 'बालिका वधू' उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत

  • हरीश रावत पर गिरफ्तारी का संकट
  • विधायक के खरीद-फरोख्त का मामला
  • सीबीआई का रावत पर कसता शिकंजा

कांग्रेस के एक के बाद एक नेताओं पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) का शिकंजा कसता जा रहा है. कांग्रेस के पी चिदंबरम और डी शिवकुमार के बाद उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर गिरफ्तारी के संकट मंडरा रहे हैं. ऐसे में हरीश रावत ने कहा कि कांग्रेस के हम बालिका वधू हैं और अगर मेरे जेल जाने से कांग्रेस का फायदा होता है तो हमें हथकड़ी लगाकर जेल ले जाया जाए. सीबीआई के दुरुपयोग का हमारा मामला उदहारण बन सकता है.

सीबीआई के कसते शिकंजे के बीच हरीश रावत ने आजतक से बातचीत करते हुए कहा कि सीबीआई की जांच में अभी तक हमने हर तरीके से सपोर्ट किया है. सीबीआई ने जब भी बुलाया है हम गए है. सीबीआई से हमारा अनुरोध है कि अगर उसे हमें गिरफ्तार करना है तो हमें यहां (उत्तराखंड) से पकड़कर और हथकड़ी लगाकर ले जाए. उत्तराखंड की जनता को भी इंसाफ करना है. उन्हें भी पता चल सके कि हरीश रावत ने कौन सा अपराध किया है, जिसके चलते पूरी सत्ता उनके पीछे पड़ी है.

हरीश रावत ने कहा, 'मैं मानसिक रूप से हर चीज झेलने को तैयार हूं. साधारण तौर पर भी सीबीआई हमें कहीं भी गिरफ्तार करने के लिए बुलाएगी तो उसके लिए भी तैयार हूं.' उन्होंने कहा कि हो सकता है कि जो अभी सीबीआई के दुरुपयोग की बात कही जा रही है. हमारा मामला इसका उदाहरण और प्रमाणिक दस्तावेज बन जाए.

साथ ही उन्होंने कहा कि हो सकता है कि हरीश रावत जेल जाकर और इन सब यातना झेलकर भी पार्टी के लिए एक उपयोगी तर्क तैयार कर सके. हरीश रावत ने कहा, 'मैं तो कांग्रेसमैन और कांग्रेस की बालिका वधू हूं, जिसने दूसरी पार्टी की तरफ कभी देखा तक नहीं. बुढ़ापे में जेल जाना यादि कांग्रेस को लाभ पहुंचाता है तो भगवान ये काम जल्दी कर दे.'

गौरतलब है कि 2017 में उत्तराखंड के तत्कलीन मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले का स्टिंग सामने आया था. इसके बाद उत्तराखंड में कांग्रेस सरकार गिरी और सरकार गिरने के बाद राज्यपाल की संस्तुति से हरीश रावत के खिलाफ सीबीआई ने जांच शुरू की थी.

सीबीआई ने विधायक खरीद-फरोख्त मामले में मंगलवार को नैनीताल हाई कोर्ट में मॉडिफिकेशन एप्लीकेशन दायर की गई, जिसमें कहा गया कि इस मामले में सीबीआई की प्रारंभिक जांच पूरी हो चुकी है. अब इस मामले में हरीश रावत की गिरफ्तारी करना चाहती है. हाई कोर्ट द्वारा सीबीआई की एप्लीकेशन स्वीकार कर ली गई है जिसके बाद यह साफ हो गया है कि रावत पर गिरफ्तारी की गाज कभी भी गिर सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay