एडवांस्ड सर्च

जानिए क्यों सीएम योगी ने अखिलेश यादव को मिलाया फोन?

हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव से बातचीत की है. दोनों नेताओं के बीच सोशल मीडिया पर तल्खियां सामने आती रहती हैं. इस बार दोनों नेताओं के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा पर बातचीत हुई.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक लखनऊ, 10 March 2020
जानिए क्यों सीएम योगी ने अखिलेश यादव को मिलाया फोन? उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो- PTI)

  • सीएम योगी ने की अखिलेश यादव से बातचीत
  • बातचीत में उठा पीएम मोदी की सुरक्षा का मुद्दा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव के बीच सियासी तनाव रहता है, यह बात किसी से छिपी नहीं है. साथ ही यह बात भी स्पष्ट है कि दोनों एक-दूसरे से बातचीत न के बराबर करते हैं. लेकिन पिछले दिनों योगी आदित्यनाथ ने फोन लगाकर अखिलेश यादव से बातचीत की.

दोनों नेताओं के बीच पिछले कुछ दिनों में दो बार बातचीत हुई. शुक्रवार को हुई बातचीत में पहले दोनों नेताओं ने एक-दूसरे का हालचाल पूछा. सीएम योगी ने अखिलेश यादव के साथ हुई बातचीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा का भी मुद्दा उठाया. सीएम योगी ने अखिलेश यादव से शिकायत की है कि उनके कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री मोदी को वाराणसी दौरे में काले झंडे दिखाने की कोशिश की.

प्रधानमंत्री की सुरक्षा का उठा मुद्दा

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि यह दूसरी बार है, जब प्रधानमंत्री की सभा में व्यवधान डालने की कोशिश समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता ने की. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि इस मामले को अपने स्तर पर देखें क्योंकि प्रधानमंत्री की सुरक्षा सीधे-सीधे एसपीजी के हाथों में होती है. बार-बार ऐसी घटनाएं ठीक नहीं है, क्योंकि ऐसा होने पर एसपीजी अब सीधे निपट सकती है.

यह भी पढ़ें: जब वाराणसी में PM मोदी के काफिले के सामने काले झंडे लेकर कूदा सपा कार्यकर्ता

'जय श्री राम' के नारे पर भी हुई बात

प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर अखिलेश यादव ने भी मुख्यमंत्री के साथ सहमति जताई लेकिन साथ-साथ कन्नौज में खुद के साथ हुए उस वाकए का भी जिक्र किया, जिसमें उनके खुद के भाषण के दौरान एक शख्स ने जय श्री राम का नारा लगाना शुरू किया. सूत्रों के मुताबिक अखिलेश यादव ने अपनी शिकायत भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से दर्ज करा दी. हालांकि दोनों नेता इस बात पर सहमत थे कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा को लेकर किसी तरह का समझौता नहीं किया जा सकता.

29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के उद्घाटन समारोह के दौरान भी समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पीएम को काले झंडे दिखाए थे. बातचीत में सीएम योगी ने कहा है कि पीएम के कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता इस तरीके से विरोध न दर्ज कराएं.

यह भी पढ़ें: सपा नेतृत्व से खफा आजम खान, कहा- सही से साथ खड़ी नहीं हुई पार्टी

बहरहाल दोनों नेताओं की बातचीत एक सकारात्मक नोट पर खत्म हुई, जब दोनों ने इस बात पर सहमति जताई कि सियासी और वैचारिक लड़ाई की वजह से नेताओं की सुरक्षा पर कोई आंच नहीं आनी चाहिए. मुख्यमंत्री आवास के सूत्रों मुताबिक दोनों के बीच बेहद हल्के-फुल्के और सकारात्मक अंदाज में बातचीत हुई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay