एडवांस्ड सर्च

वक्फ संपत्तियों पर योगी सरकार की नजर, सीबीआई से जांच की सिफारिश

उत्तर प्रदेश सरकार ने शिया वक्फ और सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा अनियमित खरीद-बिक्री और ट्रांसफर की गई संपत्तियों की जांच के लिए सीबीआई जांच की सिफारिश की है.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक लखनऊ, 13 October 2019
वक्फ संपत्तियों पर योगी सरकार की नजर, सीबीआई से जांच की सिफारिश उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Gettty)

  • दोनों मामले शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड उत्तर प्रदेश के हैं
  • इस संबंध में प्रयागराज और हजरतगंज में मुकदमे दर्ज हैं

उत्तर प्रदेश सरकार ने शिया वक्फ और सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा अनियमित खरीद-बिक्री और ट्रांसफर की गई संपत्तियों की जांच के लिए सीबीआई जांच की सिफारिश की है. शनिवार रात को सिफारिश मुख्य गृह सचिव की ने की. इस संबंध में प्रदेश सरकार द्वारा कोतवाली प्रयागराज और थाना हजरतगंज लखनऊ में मुकदमा दर्ज है.

प्रदेश गृह विभाग द्वारा इस संबंध में सचिव कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग, कार्मिक लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय, केंद्र सरकार और सीबीआई निदेशक को पत्र भेजा गया है. हालांकि पत्र में इस बारे में कुछ नहीं है कि कौन-कौन से केस में जांच होगी.

जानकारी के मुताबिक यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड और यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड द्वारा गलत तरीके से तमाम जमीनों की खरीद और ट्रांसफर कराने की शिकायतें मिल रही थीं जिसके बाद सीबीआई जांच कराने की सिफारिश की गई.

दो मुकदमे बने सिफारिश का आधार

प्रयागराज कोतवाली में 26 अगस्त 2016 और 27 मार्च 2017 को लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में दर्ज मुकदमों को जांच की सिफारिश के लिए आधार बताया गया है. सीबीआई जांच के लिए भेजी गयी सिफारिश में खरीद-फरोख्त के अलावा दोनों बोर्ड की वित्तीय अनियमितताओं की भी जांच की जाएगी.

अभी तक भेजे गए दोनों मामले शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड उत्तर प्रदेश के हैं. सुन्नी वक्फ बोर्ड का कोई मामला नहीं है, लेकिन सरकार ने फैसला किया है कि दोनों वक्त बोर्ड की जांच कराने के बाद तय होगा कि किस तरह की वित्तीय अनियमितताएं और गलत तरीके से खरीद-फरोख्त की गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay