एडवांस्ड सर्च

योगी सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार के आसार, नए चेहरे होंगे शामिल

उम्मीद है कि अच्छा काम करने वाले स्वतंत्र प्रभार के मंत्रियों को कैबिनेट का दर्जा दिया जा सकता है. जबकि कई मंत्रियों से संगठन खुश नहीं है. ऐसे मंत्रियों पर या तो गाज गिर सकती है या फिर उनके विभागों में छंटनी की जा सकती है.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक / वरुण शैलेश लखनऊ, 27 October 2018
योगी सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार के आसार, नए चेहरे होंगे शामिल मंत्रिमंडल विस्तार की संभावना (फोटो-इंडिया टुडे अर्काइव)

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के लखनऊ दौरे के बाद इस बात की संभावना बढ़ गई है कि जल्द ही योगी मंत्रिमंडल का विस्तार हो सकता है. फिलहाल मंत्रिमंडल में 13 पद खाली हैं. इस बात के कयास लगाए जा रहे हैं कि करीब 8 से 10 नए मंत्री शपथ ले सकते हैं.

कई मंत्रियों का कद बढ़ सकता है. लोगों के बीच लगातार रहने वाले और अच्छे काम करने वाले मंत्रियों को फायदा हो सकता है जबकि कुछ की छुट्टी भी हो सकती है. इस मंत्रिमंडल विस्तार के माध्यम से सरकार एक बार फिर समीकरण साधने पर जोर देगी. मंत्रिमंडल में दलित ,गुर्जर और पश्चिमी क्षेत्र की नुमाइंदगी पर ज़ोर होगा.

उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य और सुरेश खन्ना का नाम कार्यकर्ताओं की चाहत और लोकप्रियता के हिसाब से सबसे ऊपर है. बृजेश पाठक, सुरेश राणा, स्वतंत्र देव सिंह और महेंद्र सिंह सरीखे मंत्री कार्यकर्ताओं में भी लोकप्रिय हैं, और इनके काम सराहे जा रहे हैं. उम्मीद जताई जा रही है कि अच्छा काम करने वाले स्वतंत्र प्रभार के मंत्रियों को कैबिनेट का दर्जा दिया जा सकता है. जबकि कई मंत्रियों से संगठन खुश नहीं है. ऐसे मंत्रियों पर या तो गाज गिर सकती है या फिर उनके विभागों में छंटनी की जा सकती है.

मंत्रियों के लिए जिन नामों की चर्चा है उनमें राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह, अपना दल के अध्यक्ष आशीष पटेल के अलावा पश्चिमी उत्तर प्रदेश से दलित और गुर्जर नेताओं को प्रतिनिधित्व दिया जा सकता है.

फिलहाल पश्चिमी उत्तर प्रदेश से नुमाइंदगी बेहद कम है. गुर्जर समाज से कोई मंत्री नहीं है. मेरठ और आगरा जैसे शहरों से कैबिनेट में प्रतिनिधित्व नहीं है. ऐसे में योगी आदित्यनाथ अपने कैबिनेट को संतुलन स्थापित करना चाहेंगे. अब देखना यह है कि चुनावी मोड में आने से पहले बीजेपी अपने तरकश के कितने तीर चलाती है.

बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों के साथ बीजेपी नेताओं की बैठक में शामिल होने के लिए अमित शाह ने लखनऊ का दौरा किया था. बैठक में बीजेपी और सरकार की समीक्षा के साथ साथ राम मंदिर पर चर्चा हुई. आरएसएस ने बीजेपी नेताओं के सामने राम मंदिर पर संघ प्रमुख मोहन भागवत के लिए गए अपने स्टैंड को साफ साफ तौर पर रखा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay