एडवांस्ड सर्च

औरंगाबाद हादसा: 36 KM पैदल चलने के बाद आराम के लिए रुके थे मजदूर, रौंद कर चली गई ट्रेन

मई की शुरुआत कई बुरी खबरों के साथ हुई है, पहले देश में कोरोना वायरस के कहर ने रफ्तार पकड़ ली और अब लॉकडाउन के कारण मजदूरों पर लगातार संकट मंडराता जा रहा है. महाराष्ट्र के औरंगाबाद में प्रवासी मजदूर एक हादसे का शिकार हो गए.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 08 May 2020
औरंगाबाद हादसा: 36 KM पैदल चलने के बाद आराम के लिए रुके थे मजदूर, रौंद कर चली गई ट्रेन कोरोना संकट के बीच मजदूरों की बढ़ रही मुश्किलें (सांकेतिक तस्वीर)

  • औरंगाबाद रेल हादसे में 16 मजदूरों की मौत
  • शिवराज सिंह चौहान ने किया मुआवजे का ऐलान

कोरोना वायरस के कहर, लॉकडाउन की आफत और रोजगार के ठप होने की सबसे अधिक मार गरीब मजदूरों पर पड़ी है. लॉकडाउन की वजह से काम बंद हुआ तो लाखों की संख्या में मजदूर जहां थे, वहां ही रुक गए. कुछ ज्यादा दिन नहीं रुक पाए तो पैदल ही घर के लिए रवाना हो गए. ऐसे ही करीब 16 मजदूर जो घर पहुंचने की आस में पैदल ही रवाना हुए थे, एक हादसे का शिकार हो गए और उनकी मौत हो गई.

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में बदनापुर-करमाड रेलवे स्टेशन के पास शुक्रवार सुबह जब एक मालगाड़ी गुजर रही थी, तब उसने 16 से अधिक मजदूरों को कुचल दिया. इस हादसे में 16 मजदूरों की तो मौत हो गई है, जबकि कुछ अन्य मजदूर घायल भी हुए हैं.

भारतीय रेलवे की ओर से जारी प्रेस रिलीज़ के मुताबिक, जिन मजदूरों की मौत हुई है, वो सभी मध्य प्रदेश के रहने वाले थे और महाराष्ट्र के जालना में एसआरजी कंपनी में कार्यरत थे. 5 मई को इन सभी मजदूरों ने जालना से अपना सफर शुरू किया, पहले ये सभी सड़क के रास्ते आ रहे थे लेकिन औरंगाबाद के पास आते हुए इन्होंने रेलवे ट्रैक के साथ चलना शुरू किया.

महाराष्ट्र: औरंगाबाद में दर्दनाक हादसा, मालगाड़ी ने मजदूरों को रौंदा, 16 की मौत

करीब 36 किमी. तक पैदल चलने के बाद जब सभी मजदूर थक गए थे, तो ट्रैक के पास ही आराम के लिए लेट गए और वहां ही सो गए. इनमें से 16 लोग ट्रैक पर सोए, 2 बराबर में और बाकी तीन कुछ दूरी पर सोए. इन्हीं में से 16 की मौत हो गई है, बाकी जो घायल हैं उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया है.

गौरतलब है कि 24 मार्च को जब लॉकडाउन का ऐलान हुआ तो लाखों की संख्या में मजदूर फंस गए थे, उसके बाद कई मजदूर पैदल ही सैकड़ों किमी. चलकर अपने घर के लिए रवाना हुए. बीते दिनों राज्य और केंद्र की ओर से बस-ट्रेन की व्यवस्था की गई है, लेकिन मजदूरों की संख्या इतनी ज्यादा है कि नंबर आने में ही लंबा वक्त लग रहा है.

औरंगाबाद: रेलवे ने दिए जांच के आदेश, राहुल बोले- ऐसे व्यवहार पर शर्म आनी चाहिए

इस हादसे के बाद अब रेल मंत्रालय की ओर से जांच के आदेश दिए गए हैं, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख व्यक्त किया है. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान किया है, साथ ही घायलों के इलाज पर नज़र रखी जा रही है.

देश के कई हिस्सों से इन दिनों ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जहां पैदल ही घर जा रहे मजदूरों के साथ कोई हादसा हुआ है या फिर उन्होंने भूख-प्यास की वजह से दम तोड़ दिया है. एक ओर कोरोना का कहर और दूसरी ओर इस तरह गरीब मजदूरों पर आई आफत से हर कोई चिंतित है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay