एडवांस्ड सर्च

राम मंदिर: कुंभ में आए संतों ने कहा, मंदिर नहीं तो 2019 में मोदी भी नहीं

Kumbh 2019 में आए संतों ने आजतक की चौपाल में कहा कि मोदी के राज में विकास हो रहा है, लेकिन राम मंदिर बनेगा तभी यह सरकार टिकी रहेगी.

Advertisement
aajtak.in
आशुतोष मिश्रा प्रयागराज, 04 January 2019
राम मंदिर: कुंभ में आए संतों ने कहा, मंदिर नहीं तो 2019 में मोदी भी नहीं प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: AP)

2019 आम चुनाव से ठीक पहले प्रयागराज में लगने वाला कुंभ कई मायनों में अहम है. कुंभ में अखाड़ों का आगमन हो चुका है. इन्हीं अखाड़ों के महंतों ने आजतक की चौपाल में हिस्सा लिया. चौपाल में पहुंचे महंत मोदी सरकार से नाराज दिखे और चेतावनी भी कि मंदिर नहीं तो 2019 में मोदी भी नहीं. इस बीच चर्चा है कि कुंभ मेले के दौरान विश्व हिंदू परिषद प्रयागराज में धर्म संसद बुला सकता है. हालांकि, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि धर्म संसद बुलाए जाने का अधिकार किसी राजनीतिक दल को या फिर विश्व हिंदू परिषद को भी नहीं है. महेंद्र गिरी के मुताबिक, धर्म संसद बुलाए जाने का अधिकार सिर्फ चार पीठों के शंकराचार्य को है.

आजतक की चौपाल में आए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी महाराज ने कहा कि मोदी और भारतीय जनता पार्टी को विकास के नाम पर वोट नहीं मिला. अगर विकास के नाम पर वोट मिलता तो उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री कोई और होता या शायद अखिलेश यादव मुख्यमंत्री होते. गोधरा कांड के बाद मोदी का हिंदूवादी चेहरा सामने आया तो लोगों ने सोचा कि यूपी में योगी रहेंगे, वहां मोदी जी रहेंगे तो राम मंदिर बन जाएगा. मोदी के राज में विकास हो रहा है. बिजली मिल रही है. सड़कें बनाई जा रही हैं. लेकिन लोग वोट देंगे राम मंदिर के नाम पर. यदि आप राम मंदिर नहीं बनाते हैं तो बड़ा मुश्किल हो जाएगा.

लोगों की अपेक्षा नहीं पूरी कर पाई सरकार

महंत नरेन्द्र गिरी का कहना है कि राम मंदिर को लेकर सरकार का सकारात्मक रुझान नहीं दिख रहा और ऐसा लग रहा कि मंदिर बनेगा ही नहीं इसलिए हम तो बस अब सुप्रीम कोर्ट के आदेश की परीक्षा प्रतीक्षा कर रहे हैं. राजनेता मंदिर नहीं बना पाएंगे. महंत नरेंद्र गिरि महाराज ने चेतावनी दी कि मुझे लगता है सरकार को 2019 में इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा क्योंकि जो लोगों की अपेक्षा थी वह पूरी नहीं हुई.

राम मंदिर बनेगा, तभी सरकार लौटेगी

वहीं, आजतक की चौपाल में राम मंदिर मसले पर बात करते हुए निरंजनी अखाड़ा के प्रमुख महंत केशव पुरी ने कहा कि साधु संत महात्माओं ने इसीलिए बीजेपी का साथ दिया कि राम मंदिर बनेगा और एक समस्या हल होगी, लेकिन अभी ऐसा लगता है कि साढ़े 4 साल हो गए हैं फिर भी राम मंदिर के बारे में सरकार विचार नहीं कर रही है. केशव पुरी ने कहा कि राम मंदिर बनेगा तभी यह सरकार टिकी रहेगी, नहीं तो मुश्किल लगता है, क्योंकि लोगों का विश्वास उठ जाएगा. महंत केशव पुरी का कहना है कि हम चाहते हैं कि मंदिर बने और तभी बीजेपी की दोबारा सरकार बन सकती है वरना मुझे तो बहुत मुश्किल लगता है क्योंकि हिंदू समाज ही बीजेपी से जुड़ा हुआ है.

सरकार के हाथ बंधे

चौपाल में शामिल आनंद अखाड़ा के प्रमुख महंत गणेश आनंद सरस्वती का कहना है कि राम मंदिर हमारी आस्था का विषय है और सरकार अदालत में मामला विचारधीन होने की वजह से बहुत कुछ करने की स्थिति में नहीं है. महंत गणेश आनंद सरस्वती भी मानते हैं कि साधु संतों में इस बात को लेकर नाराजगी है लेकिन वो कहते हैं कि सरकार के हाथ बंधे हुए हैं.

राजनेता नहीं निकलने दे रहे हैं रास्ता

राम मंदिर निर्माण के लिए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने रास्ता सुझाया है कि राम मंदिर बनाने हेतु केवल मुस्लिम धर्मगुरु और हिंदू धर्म गुरु एक साथ बैठे चर्चा करें तो निर्णय हो जाएगा. वह इसलिए नहीं बैठे हैं क्योंकि राजनेता बैठने नहीं दे रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay