एडवांस्ड सर्च

सोनभद्र हत्याकांड में पीड़ित परिवारों के खिलाफ दर्ज केस वापस ले सरकार: प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी ने कहा, करीब 80-90 निर्दोष लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए हैं. महिलाओं पर भी गुंडा एक्ट लगाया गया है. सरकार अगर मामले में कोई कार्रवाई करना चाहती है तो, जिन पर फर्जी मुकदमे लगाए गए हैं, पहले उन्हें वापस लिया जाए. क्योंकि ये लोग पहले से ही प्रताड़ित हैं.

Advertisement
नीलांशु शुक्लानई दिल्ली, 14 August 2019
सोनभद्र हत्याकांड में पीड़ित परिवारों के खिलाफ दर्ज केस वापस ले सरकार: प्रियंका गांधी सोनभद्र में प्रियंका गांधी (Photo: Harish kandpal)

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी मंगलवार को सोनभद्र के उभ्भा गांव पहुंचीं. उन्होंने नरसंहार पीड़ितों के परिजनों से मुलाकात की और कहा कि घटना बहुत बड़ी है, लेकिन इसके बाद भी प्रशासन द्वारा पीड़ितों को परेशान किया जा रहा है.

प्रियंका ने यहां एक-एक कर मृतकों के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी. इसके साथ ही घटना के चश्मदीद रामराज और रामधनी से पूरे घटनाक्रम को जाना. प्रियंका ने कहा, "घटना बहुत बड़ी है और प्रशासन पीड़ितों को परेशान कर रहा है. कांग्रेस इसे उच्च सदन में उठाएगी." प्रियंका ने पीड़तों के परिजनों से कहा कि वह हमेशा उनके साथ हैं.

प्रियंका गांधी ने कहा, "करीब 80-90 निर्दोष लोगों के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए हैं. महिलाओं पर भी गुंडा एक्ट लगाया गया है. सरकार अगर मामले में कोई कार्रवाई करना चाहती है तो, जिन पर फर्जी मुकदमे लगाए गए हैं, पहले उन्हें वापस लिया जाए. क्योंकि ये लोग पहले से ही प्रताड़ित हैं. इन पर अत्याचार हुआ है."

इस दौरान पीड़ित परिवारों ने कहा, "हमारे बच्चों को नौकरी मिले, हमारे ऊपर दर्ज मुकदमे वापस लिए जाएं. घटना के लिए जिम्मेदार भूर्तिया परिवार को फांसी दी जाए. नरसंहार के बाद इस घटना में कुछ बेकसूर लोगों को पुलिस ने पकड़ा है, जबकि दोषी बाहर घूम रहे हैं. निर्दोष लोगों को छोड़ा जाए."

पीड़ित संतिया देवी ने कहा कि प्रशासन के द्वारा विवादित करार दिए गए जमीन पर काम करने के कारण मेरे खिलाफ भी केस दर्ज किया गया. हम किसी भी गैरकानूनी गतिविधि में लिप्त नहीं रहे. हमारे पूर्ववर्ती भी इस भूमि पर काम करते आ रहे थे. सरकार को हमारे खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेना चाहिए और जमीन का कब्जा देना चाहिए.

एक अन्य महिला, अनीता ने कहा, "हमारे गांव में जमीन पर काम करने के लिए मुझे भी गिरफ्तार किया गया था. हिंसा होने से पहले कई ग्रामीणों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. हमारी जमीन आय का एकमात्र स्रोत है जो हम किसी को नहीं दे सकते."

बंसीलाल गोंड ने कहा, 'मामले में मुख्य आरोपी और ग्राम प्रधान यज्ञ दत्त ने इस साल अप्रैल में हमें दोषी ठहराने के लिए अपनी शक्ति का दुरुपयोग किया. हमने पिछले महीने गांव में हुई हिंसा में अपने रिश्तेदारों को खो दिया. सरकार ने हर मृतक परिवार को 5 बीघा जमीन देने का वादा किया और 5 बीघा उन लोगों को जिन्होंने चोटें खाई हैं. हम तत्काल जमीन पर कब्जा चाहते हैं ताकि भविष्य में कोई बाधा न हो. यूपी के सीएम ने एक इंटर कॉलेज का भी वादा किया, जिसे जल्द ही बनवाया जाना चाहिए.'

बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 21 जुलाई को सोनभद्र हत्याकांड में मारे गए 10 गोंड आदिवासियों के परिवारों से मुलाकात की थी और समुदाय की मदद के लिए हर संभव प्रयास का वादा किया था. इस दौरान उन्होंने आरोप लगाया था कि कांग्रेस के शासन के दौरान किए गए पाप ही वर्तमान स्थिति के लिए जिम्मेदार हैं.

योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिवारों के लिए मुआवजे को 5 लाख रुपये से बढ़ाकर 18.5 लाख रुपये कर दिया था और झड़प में घायल हुए लोगों के लिए 50,000 रुपये से 2.5 लाख रुपये तक बढ़ा दिए थे. प्रियंका गांधी ने भी घोषणा की थी कि कांग्रेस मारे गए लोगों के परिवारों को 10-10 लाख रुपये देगी.

27 जुलाई को, कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल गांव पहुंचा और पीड़ित परिवारों को 10-10 लाख रुपये का चेक प्रदान किया और गोलीबारी में घायल हुए लोगों को 1 लाख रुपये का चेक प्रदान किया.

हाल ही में राज्य सरकार द्वारा वहां के जिला मजिस्ट्रेट (DM) और पुलिस अधीक्षक (SP) का भी तबादला किया गया था. साथ ही मामले में मुख्य आरोपी और ग्राम प्रधान यज्ञ दत्त सहित 30 से अधिक लोगों को पुलिस ने अब तक गिरफ्तार किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay