एडवांस्ड सर्च

बदसलूकी का वीडियो वायरल होने के बाद हटाए गए अमेठी के DM

बदसलूकी का वीडियो वायरल होने के बाद अमेठी के डीएम प्रशांत कुमार को हटा दिया गया है. बीजेपी नेता के बेटे की हत्या के बाद गुस्साई भीड़ को समझाने की बजाए अमेठी के डीएम प्रशांत कुमार अपना आपा खो बैठे थे और मृतक के भाई और पीसीएस अधिकारी का कॉलर पकड़कर बदसलूकी की थी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in लखनऊ, 14 November 2019
बदसलूकी का वीडियो वायरल होने के बाद हटाए गए अमेठी के DM यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ (फाइल फोटो)

  • अमेठी के जिलाधिकारी प्रशांत शर्मा पर गिरी गाज
  • दुर्व्यवहार के कारण डीएम पद से हटाया गया

बदसलूकी का वीडियो वायरल होने के बाद अमेठी के डीएम प्रशांत कुमार को हटा दिया गया है. उनकी जगह पर मुरादाबाद विकास प्राधिकरण के वाइस चेयरमैन अरुण कुमार को डीएम बनाया गया है. वहीं प्रशांत शर्मा को प्रवेटिंग लिस्ट में रखा गया है.

दरअसल, बीजेपी नेता के बेटे की हत्या के बाद गुस्साई भीड़ को समझाने की बजाए अमेठी के डीएम प्रशांत कुमार अपना आपा खो बैठे थे और मृतक के भाई और पीसीएस अधिकारी का कॉलर पकड़कर बदसलूकी की थी. इसके बाद स्थानीय सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने डीएम को नसीहत दी थी.

बता दें कि प्रशांत शर्मा के व्यवहार से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाराज थे. प्रशांत शर्मा अमेठी में आने से पहले लखनऊ में मुख्य विकास अधिकारी के पद पर कार्यरत थे. उन्होंने 13 जुलाई को ही अमेठी के जिलाधिकारी का पद संभाला था.

अमेठी में डीएम के आपा खो देने के मामले को शासन ने गंभीरता से लिया और गुरुवार को अमेठी के जिलाधिकारी प्रशांत शर्मा को हटा दिया है. केंद्रीय मंत्री एवं अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी ने भी ट्वीट कर उन्हें अच्छा व्यवहार करने की नसीहत दी थी.

अरुण कुमार बने अमेठी के नए डीएम

अरुण कुमार को जिले का नया जिलाधिकारी नियुक्त किया गया है. वह अभी तक मुरादाबाद विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष पद पर तैनात थे. मुरादाबाद के जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह को मुरादाबाद विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है.

क्या है पूरा मामला?

बता दें कि मंगलवार को अमेठी के एक ईंट व्यवसायी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. बुधवार को पोस्टमॉर्टम हाउस के बाहर बातचीत के दौरान जिले के डीएम आपा खो बैठे और परिजनों से अभद्रता की. जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. हालांकि, डीएम ने खुद ऐसे आरोपों को निराधार बताते हुए कहा था कि पुलिस और प्रशासन की कार्रवाई से पूरा परिवार संतुष्ट है.

प्रशांत शर्मा ने आरोपों को किया खारिज

उन्होंने कहा था कि जो वीडियो चल रहा है वह एडिट किया हुआ है. इसे लेकर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में प्रशासन का बल अपराधियों पर तो नहीं चलता है, लेकिन पीड़ित परिवार के लोगों से इस तरह का शर्मनाक व्यवहार आए दिन होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay