एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मेरठ गैंगरेप केस: जांच के आदेश, तनाव

उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले में एक युवती के साथ कथित रूप से हुए गैंगरेप और जबरन धर्म परिवर्तन की घटना की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिए गए हैं हालांकि क्षेत्र में व्याप्त तनाव को देखते हुए कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस और पीएसी को तैनात किया गया है.
मेरठ गैंगरेप केस: जांच के आदेश, तनाव मेरठ के समीप हापुड़ की घटना है यह
भाषा [Edited By: अभिजीत श्रीवास्तव]मेरठ, 05 August 2014

उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले में एक युवती के साथ कथित रूप से हुए गैंगरेप और जबरन धर्म परिवर्तन की घटना की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दिए गए हैं.

हालांकि क्षेत्र में व्याप्त तनाव को देखते हुए कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस और पीएसी को तैनात किया गया है. लड़की के साथ हुए गैंगरेप और धर्म-परिवर्तन की घटना के बाद सोमवार की रात मेरठ के खरखौदा और आसपास के क्षेत्रों में दोनों सम्प्रदायों के बीच घंटों तक पथराव होता रहा. हालांकि पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) कैप्टन एमएस बेग का कहना है कि स्थिति अब नियंत्रण में है.

हापुड़ के जिलाधिकारी राजेश कुमार सिंह ने मंगलवार को बताया कि घटना की मजिस्ट्रेटी जांच की जिम्मेदारी उपजिलाधिकारी एसपी सिंह को सौंपी गई है. वह एक सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपेंगे.

मेरठ के जिलाधिकारी पंकज यादव ने बताया कि घटना के सिलसिले में मौलवी सलाउल्ला, उसकी पत्नी और बेटे को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने बताया कि पीड़िता का बयान मंगलवार को दर्ज किया जाना था लेकिन उसने ऐसा करने से मना कर दिया.

उधर, घटनास्थल से लौटे कैप्टन बेग ने बताया कि इस पूरे मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में खरखौदा के थाना प्रभारी को लाइन हाजिर किया गया है. उन्होंने बताया कि पीड़िता की मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि हुई है. उन्होंने बताया कि पीड़िता के पिता ने खरखौदा थाना में ग्राम प्रधान नवाब खान, मौलवी सलाउल्ला, उसकी पत्नी और बेटे के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी है. शिकायत में इन चारों पर पीड़िता का अपहरण करने और उसका रेप करने का आरोप लगाया गया है.

पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) कैप्टन एमएस बेग ने बताया कि शिकायत के अनुसार, पीड़िता को हापुड़ जिले के एक मरदसे में ले जाकर नवाब के अलावा पांच अन्य लोगों ने उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया और जबरन धर्म परिवर्तन संबंधी कुछ दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कराया. शेष अभियुक्तों की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं. इस बीच घटना के विरोध में मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कमिश्नरी कार्यालय पर पार्टी के व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष विनीत अग्रवाल शारदा की अगुवाई में प्रदर्शन किया और जिलाधिकारी को एक ज्ञापन देकर मामले में तुरंत मुनासिब कार्रवाई करने की मांग की.

अग्रवाल ने आरोप लगाया कि पुलिस और सरकार सत्तारूढ़ राजनीतिक दल सपा के दबाव में काम कर रही है. उन्होंने कहा, यदि दोषियों को न्याय की जद में नहीं लाया गया तो राज्य के सभी व्यापारी हड़ताल पर चले जाएंगे.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay