एडवांस्ड सर्च

अयोध्या पर पुनर्विचार अर्जी देगा मुस्लिम पक्ष, पक्षकारों की बैठक में हुआ फैसला

मुस्लिम पक्षकारों ने शनिवार को अयोध्या मामले पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रिव्यू पिटिशन दाखिल करने का फैसला लिया. यह फैसला लखनऊ स्थित इस्लामिक शिक्षण केंद्र दारुल उलूम नदवातुल उलेमा (नदवा कॉलेज) में हुई बैठक में लिया गया.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक लखनऊ, 16 November 2019
अयोध्या पर पुनर्विचार अर्जी देगा मुस्लिम पक्ष, पक्षकारों की बैठक में हुआ फैसला अयोध्या पर फैसले को लेकर हुई मुस्लिम पक्ष की बैठक

मुस्लिम पक्षकारों ने शनिवार को अयोध्या मामले पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रिव्यू पिटिशन दाखिल करने का फैसला लिया. यह फैसला लखनऊ स्थित इस्लामिक शिक्षण केंद्र दारुल उलूम नदवातुल उलेमा (नदवा कॉलेज) में हुई बैठक में लिया गया.

जानकारी के मुताबिक यह एक अनौपचारिक बैठक थी, जिसमें मुस्लिम पक्ष के कई बड़े चेहरे शामिल हुए और सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर रिव्यू पिटिशन दाखिल करने पर रजामंदी जताई. इस दौरान पक्षकारों से वकालतनामे पर हस्ताक्षर भी करवाया गया.

बता दें कि इस बैठक में जफरयाब जिलानी भी शरीक हुए. अयोध्या मामले पर ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) भी रविवार को बैठक करने जा रहा है. बोर्ड की बैठक से पहले ही कई मुस्लिम पक्षकार अयोध्या पर पुर्नविचार अर्जी के लिए तैयार हो गए हैं.

हालांकि, इकबाल अंसारी और सुन्नी वक्फ बोर्ड ने बैठक से खुद को किनारा कर लिया है. बाबरी मस्जिद मामले में 4 वादी मुलाकात में मौजूद रहेंगे.

हालांकि, फिरंगी महली,कल्वे जव्वाद और इकबाल अंसारी सरीखे नेता नहीं चाहते कि फैसले पर पुर्नविचार अर्जी दाखिल की जाए. आखिरी फैसला रविवार को होने वाली आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में किया जाएगा.

मस्जिद का दूसरा विकल्प स्वीकार नहीं: जमीयत

बता दें कि अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की प्रस्तावित रविवार की बैठक से 2 दिन पहले जमीयत उलेमा-ए-हिंद (जेयूएच) ने फैसला किया था कि वे मस्जिद के लिए 5 एकड़ वैकल्पिक भूमि स्वीकार नहीं करेंगे.

ज्ञात हो कि जेयूएच अयोध्या मामले में एक प्रमुख मुस्लिम वादी रहा है. जमीयत उलेमा-ए-हिंद (जेयूएच) की कार्यकारी समिति की गुरुवार को दिल्ली में हुई बैठक के दौरान संस्था ने कहा कि मस्जिद के लिए दी गई वैकल्पिक भूमि किसी कीमत पर स्वीकार्य नहीं है, चाहे पैसा हो, या भूमि हो.

जेयूएच ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर समीक्षा याचिका डालने की संभावना से इंकार नहीं किया. जेयूएच के अध्यक्ष अरशद मदनी ने कहा कि पांच सदस्यीय तथ्यान्वेषी समिति मामले पर कानूनी राय लेगी.

उत्तर प्रदेश जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष अशद रशीदी ने कहा, 'कार्यकारी समिति की बैठक में दो महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए. एक मस्जिद के लिए पांच एकड़ वैकल्पिक भूमि से संबंधित था और दूसरा एक समीक्षा याचिका दायर करने की संभावना को लेकर था.'

उन्होंने आगे कहा, 'कार्यकारी समिति ने सर्वसम्मति से फैसला लिया है कि दुनिया की किसी भी चीज से मस्जिद की 'बदल' (वैकल्पिक) नहीं हो सकती है, चाहे वह पैसा हो या जमीन.'

जमीयत उलेमा-ए-हिंद की स्थापना 1919 में हुई थी. यह प्रभावशाली और आर्थिक रूप से मजबूत मुस्लिम संगठनों में से एक है. संगठन ने खिलाफत आंदोलन और स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भूमिका निभाई थी. वहीं संगठन ने विभाजन का भी विरोध किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay