एडवांस्ड सर्च

कानपुर केसः CBI जांच के लिए राज्यपाल को ज्ञापन देने जा रहे कांग्रेसी हिरासत में

प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के साथ बड़ी संख्या में कांग्रेसी राज्यपाल से मिलकर ज्ञापन देने निकल पड़े. पैदल मार्च करते हुए राजभवन जा रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने कांग्रेस भवन के बाहर ही रोक लिया.

Advertisement
aajtak.in
आशीष श्रीवास्तव लखनऊ, 07 July 2020
कानपुर केसः CBI जांच के लिए राज्यपाल को ज्ञापन देने जा रहे कांग्रेसी हिरासत में पुलिस ने रोका तो हुई झड़प

  • कांग्रेस भवन के बाहर ही पुलिस ने रोका
  • पुलिस पर लगाया बर्बरता का आरोप

कानपुर केस के मुख्य आरोपी विकास दुबे पर इनामी राशि पांच गुना बढ़ाई जा चुकी है, लेकिन पुलिस अब तक उसे नहीं पकड़ पाई है. विकास दुबे के अधिकारियों और नेताओं से भी कनेक्शन की बात सामने आई थी. अब इस मामले ने सियासी रंग ले लिया है. विपक्षी दल इस केस को लेकर सरकार पर हमलावर हैं. कांग्रेस इस मामले की केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) से जांच कराने की मांग कर रही है.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मंगलवार को सीबीआई जांच की मांग को लेकर कांग्रेस सड़क पर उतर आई. प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के साथ बड़ी संख्या में कांग्रेसी राज्यपाल से मिलकर ज्ञापन देने निकल पड़े. पैदल मार्च करते राजभवन जा रहे कांग्रेसियों को पुलिस ने कांग्रेस भवन के बाहर ही रोक लिया. पुलिस और कांग्रेसियों में तीखी नोकझोंक हुई, जिसके बाद पुलिस ने प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और अन्य कांग्रेसियों को हिरासत में ले लिया.

विकास दुबे की तलाश में फरीदाबाद के होटल पर रेड, साथी गिरफ्तार

इस संबंध में कांग्रेस के मीडिया प्रभारी और प्रवक्ता लल्लन कुमार ने आरोप लगाया कि कानपुर कांड में सरकार के मंत्री और अधिकारी शामिल हैं. उस अपराधी को सरकार का संरक्षण था. इसीलिए वह अभी तक पकड़ा नहीं गया. उन्होंने कहा कि हम इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग करते हैं. कांग्रेस के मीडिया प्रभारी ने पुलिस पर बर्बरता का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्यपाल को सीबीआई जांच की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपने जा रहे कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया.

गैंगस्टर विकास दुबे का सुराग नहीं, तलाश में पुलिस

बता दें कि 2 जुलाई की देर रात गैंगस्टर विकास दुबे के घर दबिश देने जा रही पुलिस टीम का रास्ता जेसीबी से रोक कर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई गई थीं. बदमाशों ने पुलिस टीम को घेर कर तीन तरफ से गोलियां बरसाई थीं. इस घटना में एक क्षेत्राधिकारी (सीओ) समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. पुलिस ने विकास के सिर पर तब 50 हजार का इनाम घोषित किया था. इनाम की राशि पांच गुना बढ़ाकर ढाई लाख रुपये की जा चुकी है, लेकिन पांच दिन बाद भी विकास दुबे पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सका है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay