एडवांस्ड सर्च

5 दिन बाद भी शिकंजे से बाहर विकास दुबे, पुलिस और गृह विभाग से CM योगी खफा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विकास की गिरफ्तारी अब तक न हो पाने को लेकर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक डीजीपी के साथ ही अन्य वरिष्ठ पुलिस और गृह विभाग के अधिकारियों से नाराज हैं.

Advertisement
aajtak.in
नीलांशु शुक्ला लखनऊ, 07 July 2020
5 दिन बाद भी शिकंजे से बाहर विकास दुबे, पुलिस और गृह विभाग से CM योगी खफा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

  • गृह विभाग के अधिकारियों से भी नाराज
  • मुख्यमंत्री खुद ले रहे हर रेड की अपडेट

कानपुर में 2 जुलाई की देर रात गैंगस्टर विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए दबिश देने गई पुलिस टीम पर बदमाशों ने फायर झोंक दिया था. इस घटना में क्षेत्राधिकारी (सीओ) समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इस घटना को पांच दिन बीत गए, लेकिन मुख्य आरोपी विकास दुबे पुलिस की गिरफ्त से अब तक दूर है.

विकास दुबे की अब तक गिरफ्तारी न होने से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाराज हैं. सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब तक विकास दुबे की गिरफ्तारी न हो पाने को लेकर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) के अलावा अन्य वरिष्ठ पुलिस और गृह विभाग के अधिकारियों से नाराज हैं.

विकास दुबे की तलाश में फरीदाबाद के होटल पर रेड, साथी गिरफ्तार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब खुद विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए हो रही हर रेड की अपडेट ले रहे हैं.गौरतलब है कि कानपुर केस के बाद कानून-व्यवस्था को लेकर सरकार चौतरफा घिरी है. विपक्ष भी हमलावर है. वहीं विकास का अधिकारियों और नेताओं से कनेक्शन सामने आने के बाद सीबीआई जांच की मांग भी जोर पकड़ रही है.

गैंगस्टर विकास दुबे का सुराग नहीं, तलाश में पुलिस

विकास के सिर पर ढाई लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है. पुलिस की 40 टीमें विकास दुबे की तलाश कर रही हैं. घटना वाले दिन ही कानपुर मंडल की सीमा सील करने के साथ ही नेपाल सीमा पर भी अलर्ट कर दिया गया था. औरैया से लेकर फरीदाबाद तक रेड हुई. पुलिस हर उस संभावित ठिकाने पर छापेमारी कर रही है, जहां विकास के छिपे होने का अंदेशा है, लेकिन पुलिस के हाथ अब तक खाली ही हैं.

विकास दुबे के साथ-साथ इन दो बाहुबली नेताओं पर है योगी सरकार की नजर

बता दें कि कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव निवासी विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए 2 जुलाई की देर रात पुलिस टीम दबिश देने गई थी. बदमाशों ने रास्ते में जेसीबी खड़ी कर दी थी. वाहन से उतरकर पैदल ही विकास के घर की ओर बढ़ रहे पुलिसकर्मियों पर बदमाशों ने तीन तरफ से गोलीबारी की थी. इस घटना में एक सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay