एडवांस्ड सर्च

पिता ने पढ़ने के लिए पैसे देने से किया था इनकार, गुस्से में बेटा बन गया अलकायदा आतंकी

अफगानिस्तान में मारा गया आतंकवादी संगठन अलकायदा का इंडियन सबकॉन्टिनेंट प्रमुख आसिम उमर उर्फ सना उल हक उत्तर प्रदेश के संभल का रहने वाला था. उसने एक समय अपने पिता से पढ़ाई के वास्ते सऊदी जाने के लिए पिता से पैसों की डिमांड की थी और नहीं मिलने पर घर छोड़कर चला गया था.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in संभल, 10 October 2019
पिता ने पढ़ने के लिए पैसे देने से किया था इनकार, गुस्से में बेटा बन गया अलकायदा आतंकी आसिम उमर (फाइल फोटो)

  • संभल का रहने वाला था AQIS का चीफ आसिम उमर
  • पिता ने पढ़ने के लिए पैसे देने से किया था इनकार
  • पिता के इनकार करने पर घर छोड़कर बन गया आतंकी

अफगानिस्तान में मारा गया आतंकवादी संगठन अलकायदा का इंडियन सबकॉन्टिनेंट (AQIS) प्रमुख आसिम उमर उर्फ सना उल हक उत्तर प्रदेश के संभल का रहने वाला था. उसने एक समय अपने पिता से पढ़ाई के वास्ते सऊदी जाने के लिए पिता से पैसों की डिमांड की थी और नहीं मिलने पर घर छोड़कर चला गया था.

आसिम उमर उर्फ सना उल हक को उसका परिवार शन्नू कहकर बुलाया करता था. उमर ने परिवार से सभी रिश्तों को तोड़ दिया था. अमेरिका व अफगानिस्तान के संयुक्त हमले में उमर मारा गया. आसिम के बड़े भाई रिजवान ने आजतक से बातचीत में बताया कि आसिम उमर की मौत की खबर उनको जिले की LIU पुलिस ने दी.

पढ़ाई के लिए पैसे नहीं मिले तो छोड़ा घर

उमर के भाई रिजवान ने बताया कि आतंकी उमर ने संभल के एक सरकारी स्कूल में 8वीं क्लास तक पढ़ाई की. उमर ने एक बार सऊदी अरब जाने के लिए पैसे की डिमांड की थी लेकिन पैसे नहीं मिलने पर वह घर छोड़कर चला गया. रिजवान ने कहा कि सन 1993  में उमर देवबंद चला गया था. उसके बाद कभी-कभी मुलाकात हुई लेकिन 1998 से उससे कोई संपर्क नहीं हुआ.

आसिम उमर ने संभल के हिंद इंटर कॉलेज में 8वीं तक की शिक्षा ग्रहण की थी. उसके बाद संभल की रोजे वाली मस्जिद में हिफ्ज किया था. कुछ समय बाद उमर देवबंद चला गया. 1991 में उसने मौलवीअत की डिग्री हासिल की. इसके बाद वो सऊदी अरब जाकर पढ़ाई करना चाहता था.

उमर ने अपने पिता से सऊदी अरब जाकर पढ़ाई करने के लिए 90 हजार रुपये की मांग की थी. लेकिन उसके पिता ने पैसे देने से इनकार कर दिया और घर की सबसे बड़ी बहन हुस्न जहां की शादी की बात कही.

उमर ने पिता से पैसे नहीं मिलने के कारण गुस्सा होकर घर छोड़ने का फैसला कर लिया और तभी से आसिम उमर संभल का दीपा सराय मोहल्ला छोड़कर लापता हो गया. 30 जून 1996 को दिल्ली से खुफिया एजेंसियों की टीम संभल के दीपा सराय पहुंची और आसिफ उमर के बारे में पूछताछ की.

घरवालों ने कहा- हमारा कोई संपर्क नहीं रहा

इसके बाद उमर के पिता को हिरासत में लेकर दिल्ली चली गई 4 दिन पूछताछ के बाद उसके पिता को छोड़ दिया गया. परिजनों का कहना था कि जिस दिन से उमर ने घर छोड़ा तब से उनका उससे कोई भी संपर्क नहीं है और ना ही कोई लेना-देना है.

परिजनों ने कहा, 'खुफिया एजेंसियों से पता चला कि उमर अलकायदा से जुड़ गया है और वह आतंकवादी बन गया है.' अलकायदा चीफ मोहम्मद आसिफ और उसका सहयोगी जफर मसूद पहले ही गिरफ्तार हो चुके हैं. फिलहाल संभल के दीपा सराय में सन्नाटा पसरा हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay