एडवांस्ड सर्च

Advertisement

गोरखपुर में सीएम योगी परास्त, सपा ने खेली जीत की होली

समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज करते हुए इतिहास रच दिया है. सपा के उम्मीदवार प्रवीण निषाद ने बीजेपी के उपेंद्र दत्त शुक्ल को मात दी है.
गोरखपुर में सीएम योगी परास्त, सपा ने खेली जीत की होली सपा ने खेली जीत की होली
आशुतोष मिश्रा [ Edited By: जावेद अख़्तर]गोरखपुर, 14 March 2018

यूपी की गोरखपुर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजों ने सबको चौंका दिया है. यहां से समाजवादी पार्टी ने जीत दर्ज करते हुए इतिहास रच दिया है. सपा के उम्मीदवार प्रवीण निषाद ने बीजेपी के उपेंद्र दत्त शुक्ल को मात दी है. निषाद ने उपेंद्र दत्त को 21881 मतों से हराया है.

समाजवादी पार्टी के युवा उम्मीदवार प्रवीण निषाद को कुल 4,56,513 वोट मिले हैं. जबकि दूसरे नंबर पर रहे बीजेपी के उम्मीदवार उपेंद्र दत्त शुक्ल को कुल 4,34,632 वोट मिले हैं.

हर राउंड में ऐसे रहे नतीजे

-29वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 24,723 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 4,21,117 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 4,10,806 वोट मिले.

-28वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 22,617 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 4,21,117 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 3,98,500 वोट मिले.

-27वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 21,117 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 4,05,870 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 3,84,753 वोट मिले.

-26वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 20,942 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 3,89,868 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 3,68,926 वोट मिले.

-25वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 22,950 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 3,77,142 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 3,54,192 वोट मिले.

-24वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 24,493 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 3,63,272 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 3,38,779 वोट मिले.

-22वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 25,870 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 3,34,463 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 3,08,593 वोट मिले.

-20वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 28,358 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 3,07,727 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 2,79,369 वोट मिले.

-19वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 28,737 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 2,93,153 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 2,64,416 वोट मिले.

-18वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 28,372 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 2,78,611 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 2,50,239 वोट मिले.

-17वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 26,960 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 2,62,346 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 2,35,836 वोट मिले.

-16वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 24,569 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 2,44,986 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 2,20,417 वोट मिले. वहीं, कांग्रेस को 10322 वोट प्राप्त हुए.

-15वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 23,130 वोटों से आगे रहे. इस राउंड तक सपा उम्मीदवार को कुल 229622 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार उपेंद्र शुक्ल को 2,06,492 वोट मिले. वहीं, कांग्रेस को 9742 वोट प्राप्त हुए.

-14वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 19201 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 2,12,061 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 1,92,860 वोट मिले.

-13वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 14,937 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 1,94,760 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 1,79,823 वोट मिले.

-12वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 14,668 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 1,80,155 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 1,65,487 वोट मिले.

-11वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 13,879 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 1,63,941 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 1,50,062 मिले.

-9वें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 14,648 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 1,35,565 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 1,20,917 मिले.

-आठवें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 10,598 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 1,19,427 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 1,08,829 मिले.

-सातवें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 9966 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 105656 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 95690 मिले.

-छठे राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 7139 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 89950 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 82811 मिले.

-पांचवें राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 4060 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 74377 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 70317 मिले.

-चौथे राउंड की मतगणना के बाद भी सपा उम्मीदवार को कुल 59907 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 56945 वोट प्राप्त हुए. चौथे राउंड की मतगणना के बाद प्रवीण निषाद 2962 वोटों से आगे रहे.

-तीसरे राउंड की मतगणना के बाद सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद 1523 वोटों से आगे रहे. सपा उम्मीदवार को कुल 44979 वोट मिले, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को 43456 मिले.

-दूसरे राउंड की काउंटिंग के बाद सपा उम्मीदवार आगे रहे. वो सिर्फ 24 वोटों से आगे थे. दूसरे राउंड के बाद सपा उम्मीदवार को 29218 और बीजेपी उम्मीदवार को 29194 वोट प्राप्त हुए.

-हालांकि, पहले राउंड के बाद बीजेपी के उपेंद्र दत्त शुक्ल 1666 वोटों से आगे चल रहे थे. उपेंद्र शुक्ल को पहले राउंड की मतगणना के बाद 15577 वोट मिले, जबकि प्रवीण निषाद को 13911 मिले.

मीडिया को रखा दूर

यहां प्रशासन ने शुरुआत में न सिर्फ मीडिया को मतगणना केंद्र से दूर रखा, बल्कि उन्हें सूचना भी नहीं. आठ राउंड की काउंटिंग पूरी होने के बावजूद सिर्फ एक राउंड के नतीजे ही घोषित किए गए. जिसके बाद डीएम ने मतगणना केंद्र पर मौजूद कर्मचारियों की सुस्ती को इसका कारण बताया.

इससे पहले सपा उम्मीदवार प्रवीण निषाद ने ईवीएम पर सवाल उठाए. उन्होंने ये भी आरोेप लगाया था कि काउंटिंग बूथ के अंदर से हमारे समर्थकों को बाहर निकाला गया है. उन्होंने स्ट्रॉन्ग रूम से ऑब्जर्वर को बाहर निकालने का आरोप लगाया.

11 मार्च को हुआ मतदान

रविवार को हुए मतदान में 47.4 फीसदी वोट पड़े थे. अगर 2014 के लोकसभा चुनाव से इसकी तुलना की जाए तो आंकड़ा करीब सवा सात फीसदी कम है क्योंकि 2014 के चुनाव में यहां 54.64 फीसदी वोट पड़े थे.

गौरतलब है कि बीजेपी ने पिछले साल यूपी विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत के साथ सूबे की सत्ता में वापसी की तो मुख्यमंत्री का ताज योगी आदित्यनाथ के सिर सजा. इसके बाद उन्होंने गोरखपुर लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. इसी के चलते यहां उपचुनाव हुआ.

गोरखपुर बीजेपी का मजबूत दुर्ग माना जाता है. ये बीजेपी की परंपरागत सीट है. महंत अवैद्यनाथ ने 1970 में निर्दलीय के रूप में जीत का जो सिलसला शुरू किया, वह आज तक जारी है. महंत अवैद्यनाथ गोरखपुर से चार बार सांसद रहे, 1970 में निर्दलीय तो 1989 में वो हिंदू महासभा से सदस्य बने.  

गोरखपर में महंत अवैद्यनाथ की राजनीतिक विरासत को योगी आदित्यनाथ ने 1998 में संभाला तो फिर पलटकर नहीं देखा. पिछले पांच बार से लगातार योगी बीजेपी के टिकट से संसद पहुंचते रहे हैं. 1991 और 1998 में बीजेपी को समाजवादी पार्टी से कड़ी टक्कर मिली थी लेकिन 2004 के बाद से अभी तक बीजेपी के योगी आदित्यनाथ एकतरफा जीत हासिल करते रहे हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay